बांग्लादेश में हाहा इमोजी पर हुआ फतवा जारी बांग्लादेशी मौलवी ने बताया इसे हरा’म

अंतरराष्ट्रिय खबर

फेसबुक तो हम सभी लोग चलाते ही है अब यह हमारे जीवन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बन चूका है , बूढ़ा हो या जवान या कोई बच्चा सभी फेसबुक का इस्तेमाल कर रहे है। फेसबुक पर रोज हजारो करोड़ो वीडियो फोटोज डलती है जिसपर लोग अपनी अपनी प्रतिक्रिया देते है जैसे की किसी हसने वाली वीडियो या फोटो पर या किसी जोक पर हाहा रियेक्ट कर दिया हाहा का इमोजी कमेंट कर कैप्शन के साथ लिख दिया यह सब साधारण है पर बंगलादेश में एक ऐसा व्याख्या सामने आया है जिसमे इस इमोजी को एक मौलवी ने हरा’म बता दिया है चलिए जानते है पूरा मामला

फेसबुक और यूट्यूब पर 30 लाख से ज्यादा फॉलोअर्स वाले एक बांग्लादेशी मौलवी ने फतवा जारी कर लोगों का मजाक उड़ाने के लिए फेसबुक के इमोजी ‘हाहा’ का इस्तेमाल करने पर रोक लगा दी है।

एक बड़े ऑनलाइन अनुयायी के साथ एक प्रसिद्ध मौलवी ने लोगों का मजाक उड़ाने के लिए फेसबुक के ‘हाहा’ इमोजी का उपयोग करने से लोगों पर प्रति’बंध लगाते हुए एक फतवा जारी किया है।

 

फेसबुक और यूट्यूब पर 30 लाख से ज्यादा फॉलोअर्स वाले एक बांग्लादेशी मौलवी ने फतवा जारी कर लोगों का मजाक उड़ाने के लिए फेसबुक के इमोजी ‘हाहा’ का इस्तेमाल करने पर रोक लगा दी है।

एक बड़े ऑनलाइन अनुयायी के साथ एक प्रसिद्ध मौलवी ने लोगों का मजाक उड़ाने के लिए फेसबुक के ‘हाहा’ इमोजी का उपयोग करने से लोगों पर प्रतिबंध लगाते हुए एक फतवा जारी किया है।

अहमदुल्ला नाम के मौलवी, जिनके फेसबुक और यूट्यूब पर 30 लाख से ज्यादा फॉलोअर्स हैं, मुस्लिम बहुल देश में धार्मि’क मुद्दों पर चर्चा करने के लिए नियमित रूप से टेलीविजन पर दिखाई देते हैं।

उन्होंने तीन मिनट की अवधि के साथ एक वीडियो पोस्ट किया जिसमें फेसबुक पर लोगों का मज़ाक उड़ाते हुए चर्चा की गई और एक फतवा, एक इस्लामी फतवा जारी करना जारी रखा, जिसमें बताया गया कि यह मुसलमानों के लिए हरा’म है।

अहमदुल्ला ने कहा कि लोग आजकल फेसबुक के ‘हाहा’ इमोजी का उपयोग कर रहे हैं।

उन्होंने समझाया कि यह ठीक है अगर हम ‘हाहा इमोजी’ का इस्तेमाल पूरी तरह सेमस्ती से करते हैं और इसे पोस्ट करने वाले शख़्स का इरादा था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.