शर्मनाकः हॉस्पिटल स्टाफ ने मरीज के तीमारदारों की लाठियों से की जानवरों की तरह पिटाई, तमाशबीन बने लोग बनाते रहे वीडियो

अजब गजब खबरे

उत्तराखंड में एक अस्पताल के बाहर इंसानियत को शर्मसार करता मामला सामने आया है। यहां काशीपुर का सहोता अस्पताल एक बार फिर सुर्खियों में है। अस्पताल के बाहर  मरीज के परिजनों की बेरहमी से पिटाई का मामला सामने आया है। मामले का एक वीडियों भी सामने आया है। जिससे साफ जाहिर हो रहा है कि किस तरह हॉस्पिटल स्टाफ बेरहमी से तीमारदारों को लाठी-डंडों से पिट रहे है। दरअसल बीते दो जून को काशीपुर के सहोता हॉस्पिटल के बाहर छोटी सी कहासुनी के बाद लाठियों से मरीज के तीमारदारों की बेरहमी से पिटाई करने वाले अस्पताल के तीन तथाकथित कर्मचारियों को कोतवाली पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।

मामले का वीडियो वायरल हो रहा है। वीडियो में देखा जा सकता है कि काशीपुर के सहोता सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल एंड ट्रामा सेंटर के ये तथाकथित कर्मचारी कैसे मरीज के तीमारदारों की लाठियों से जानवरों की तरह पिटाई कर रहे हैं। फिलहाल इस पूरे मामले में पुलिस ने मरीज के तीमारदारों से मारपीट करने के मामले में सहोता हॉस्पिटल के इन तथाकथित कर्मचारियों के खिलाफ बलवा और मारपीट की धाराओं में मुकदमा दर्ज कर 3 कर्मचारियों को गिरफ्तार कर लिया है पर अभी तक पुलिस ने इस पूरे मामले में अस्पताल प्रबंधन के खिलाफ किसी भी प्रकार की कोई कानूनी कार्रवाई नहीं की है….

वहीं स्थानीय पुलिस अधिकारियों को पता है कि सहोता हॉस्पिटल प्रबंधन ने कर्मचारियों के नाम पर अस्पताल में कुछ बाउंसर तैनात किए हैं पर इसके बावजूद वह इस बेहद गंभीर मामले में पुलिस ने हॉस्पिटल के केवल तीन कर्मचारियों को गिरफ्तार कर मामले से इतिश्री कर ली है। इतना ही नहीं पुलिस ने उल्टे अस्पताल प्रबंधन की तहरीर पर पीड़ित व्यक्तियों के खिलाफ भी काशीपुर कोतवाली में मुकदमा दर्ज कर लिया है।

अब बड़ा सवाल ये  है कि आखिरकार सहोता हॉस्पिटल प्रबंधन को अस्पताल में बाउंसर रखने की क्या जरूरत पड़ गई और क्यों पुलिस इस पूरे मामले में अब तक अस्पताल प्रबंधन के खिलाफ कोई कानूनी कार्रवाई नहीं कर सकी है। मामले में आगे क्या कार्यवाही होगी ये देखना अहम है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.