Home / खबरे / देहरादून की निहारिका ने कड़े संघर्ष के बाद पास की यूपीएससी परीक्षा, अफसर बन करेगी देश सेवा

देहरादून की निहारिका ने कड़े संघर्ष के बाद पास की यूपीएससी परीक्षा, अफसर बन करेगी देश सेवा

यूपीएससी का रिजल्ट जारी हो चुका है। उत्तराखंड के युवा अब अधिकारी बन देश रक्षा करने को तैयार है। उत्तराखंड की बेटियों ने भी अपना लोहा मनवाया है। इस कड़ी में देहरादून की निहारिका का नाम भी जुड़ गया है। उन्होंने साबित कर दिया कि बेटियां किसी भी क्षेत्र में बेटों से कम नहीं होती हैं। वह कोई भी मुकाम हासिल कर सकती है।

देहरादून की निहारिका तोमर ने भी यूपीएससी परीक्षा में 121वीं रैंक हासिल कर उत्तराखंड का मान बढ़ाया है। इसके बाद निहारिका की सफलता से जिले में जश्न का माहौल है, उन्हें अपने दोस्तों और रिश्तेदारों से लेकर बड़े-बड़े वीआईपी लोगों की भी खूब बधाइयां मिल रही है।

आपको बता दें कि निहारिका मूल रूप से पौड़ी गढ़वाल जिले के द्वारीखाल के गांव जवाद की रहने वाली हैं| निहारिका बचपन से ही देहरादून में रहती हैं। यहीं उनकी शिक्षा भी हुई। निहारिका के पिता केवी ओएनजीसी में टीचर हैं। निहारिका ने सातवीं कक्षा तक गौतम इंटरनेशनल स्कूल में पढ़ाई की।

केवी ओएनजीसी से पढ़ाई पूरी करने के बाद उन्होंने पंतनगर यूनिवर्सिटी से बी.टेक किया। निहारिका इससे पहले तीन बार यूपीएससी की परीक्षा दे चुकी हैं। वह तीसरे प्रयास में साक्षात्कार से बाहर हो गई। फिर भी निहारिका ने हार नहीं मानी और चौथे प्रयास में 121वीं रैंक हासिल की।

निहारिका ने इस प्रयास के लिए काफी संघर्ष किया था और वह अपने चौथे प्रयास में यह सफलता हासिल करने में सफल रही है। निहारिका की सफलता कई मायनों में खास है। सबसे पहले उन्होंने यूपीएससी की तैयारी के लिए वैकल्पिक विषय के रूप में राजनीति विज्ञान और अंतर्राष्ट्रीय संबंधों के लिए दिल्ली में तीन महीने तक कोचिंग ली। इसके अलावा उन्होंने कोई कोचिंग नहीं ली। उसने घर पर रहकर परीक्षा की तैयारी की और आखिरकार अपने सपने को साकार करने में सफल रही।