Home / खबरे / उत्तराखंड के सरकारी स्कूलों में अब पढ़ाई के साथ होंगे प्रोफेशनल कोर्स, छात्रों को निखरेगा हुनर

उत्तराखंड के सरकारी स्कूलों में अब पढ़ाई के साथ होंगे प्रोफेशनल कोर्स, छात्रों को निखरेगा हुनर

उत्तराखंड के स्कूलों में अब बच्चों का हुनर निखरेगा। स्कूल में अब सिर्फ किताबी पढ़ाई नहीं बल्कि व्यवसायिक शिक्षा भी दी जाएंगी। प्रदेश के 200 स्कूलों में आठ अलग-अलग व्यवसायिक कोर्स की शुरुआत कर दी है। स्कूली पाठ्यक्रमों में आईटी, ऑटोमोटिव, रिटेल, टूरिज्म, हॉस्पिटैलिटी, पलंबर, इलेक्ट्रॉनिक, हार्डवेयर ,एग्रीकल्चर, ब्यूटी वैलनेस को शामिल किया गया है। 9 और 10 क्लास के छात्र छात्राओं के लिए यह कोर्स शुरू किया गया है।

आपको बता दें कि इस दो वर्षीय व्यवसायिक कोर्स में छात्रों को केवल थ्योरी नहीं पढ़ाई जाएगी बल्कि बकायदा फील्ड ट्रेनिंग भी दी जाएगी। नौवीं और दसवीं को मिलाकर 80 घंटे फील्ड ट्रेनिंग के होंगे, जिसमें संबंधित कोर्स से जुड़ी इंडस्ट्री में छात्रों को ले जाकर ट्रेनिंग दी जाएगी। ट्रेनिंग के दौरान छात्रों की दक्षता जांचने के लिए लिखित और प्रयोगात्मक परीक्षाएं भी होंगी। जिसके अंक बोर्ड रिज़ल्ट में जुड़ेंगे।

दसवीं के बोर्ड के दौरान अगर किसी छात्र-छात्रा के किसी मुख्य विषय में कम अंक आते हैं और वोकेशनल कोर्स में ज्यादा अंक हैं, तो उसका परिणाम वोकेशनल कोर्स के अंक जोड़कर तैयार किया जाएगा। खास बात यह है कि व्यवसायिक कोर्स के बाद जो छात्र नौकरी करने के इच्छुक होंगे, उनके अभिभावकों की सहमति के बाद मुहैया करवाया जाएगा। इसी सत्र से इस योजना का लाभ मिलना शुरू हो जाएगा।

पहले चरण में प्रदेश के 200 स्कूल में आठ कोर्स शुरू किए जाएंगे। इनमें 61 मैदानी और 139 पहाड़ी जिलों के स्कूल शामिल हैं। इस योजना का लाभ कक्षा नौवीं और दसवीं के छात्र-छात्राओं को मिलेगा। चयनित स्कूल में कंपनी की ओर से संबंधित कोर्स की लैब भी स्थापित की जाएगी। लैब के लिए कमरा स्कूल उपलब्ध करवाएगा, लेकिन पूरी मशीनरी और टूलकिट कंपनी उपलब्ध करवाएगी। योजना सफल रहने पर प्रदेश के अन्य स्कूल में भी यह कोर्स शुरू होंगे।