पाली हाउस किसानो के लिए है बहुत ही किफायती

खेती

कोरोना के चलते लॉकडाउन हुआ, भारत के कई हिस्सों में जरूरी सामान की किल्लत भी हुई. ऐसे में एक चीज़ जो की काफी पॉपुलर हुई वो थी अर्बन-फार्मिंग, इस फार्मिंग का नाम अर्बन-फार्मिंग इसलिए बना क्योंकि लोग अपने घर की छत, घर की पार्क, पार्किंग एरिया या फिर बालकॉनी में ही सब्जियां उगाने लगे हैं.

hydroponic-farming-farmers-will-get-a-profit-pic

ऐसे में जिन लोगों के पास 200 वर्ग फ़ीट से ज्यादा कुछ उगाने लिए जगह है. आज हम उन लोगों के लिए यह रिपोर्ट लेकर आये हैं. इसमें आप केवल एक बार में 1 लाख निवेश कर सालाना 2 लाख रूपए तक की सब्जी-फल उगा सकते हैं. आपको बता दें की इसके लिए आपको मिट्टी से भरा बाग़ बनाने की जरूरत नहीं हैं.यह काम आपको ‘हाइड्रोपोनिक’ तकनीक की मदद से कर सकते हैं. इस तकनीक के सहारे पौधों में जरूरी पोषक तत्व पानी से सीधा पौधों में पहुंचाए जाते हैं. इस तकनीक में मल्टी-लेयर तैयार करके एक पाइप में पौधा रख दिया जाता है और ‘हाइड्रोपोनिक’ तकनीक से उसे पोषक तत्व दिए जाते हैं.इस तकनीक के सहारे पानी, फर्टिलाइजर और कीटनाशक की खपत लगभग 80 से 85 प्रतिशत तक कम हो जाती हैं. ऐसे में इसकी पैदावार भी ज्यादा होती है और अच्छी होती हैं. हालाँकि शुरूआती खर्चे के बाद पहली पैदावार आपकी लागत को पूरा कर देगी और उसके बाद आपको भरपूर फायदा मिल सकेगा.

hydroponic-farming-farmers-will-get-a-profit-pics

इस तरह की खेती अगर किसान करना चाहते हैं तो उन्हें शुआत में पॉलिहाउस (Polyhouse) या नेट शेड (Net Shed) पर ज्यादा खर्च करना पड़ सकता हैं. क्योंकि यह पौधे सीधा पानी से ही पोषक तत्व ग्रहण करते हैं, इसलिए इनपर सीधी धुप न पड़े उसका ध्यान रखना पड़ता हैं. यही कारण हैं की, आपका खेत जितना ज्यादा बड़ा होगा आपको एक बार उतना ही ज्यादा इन्वेस्ट करना पड़ेगा.मुनाफे की बात करें तो पानी, कीटनाशक और फर्टिलाइजर ही जब आपके 80 से 85 प्रतिशत कम लग रहें हैं तो जाहिर है आपकी लागत को वह 80 प्रतिशत तक कम कर रहें हैं. ऐसे में जब आप बाजार में इसे बेचने जाएंगे तो बड़े शहरों में आर्गेनिक सब्जियों की कीमत वैसे भी ज्यादा ही मिलती हैं. ऐसे में यह आपका मुनाफा परंपरागत खेती के मुकाबले बहुत ज्यादा बढ़ा देगा.
hydroponic-farming-farmers-will-get-a-profit-photo

Leave a Reply

Your email address will not be published.