क्या शाहिद अफरीदी ने कह दिया है हमेशा के लिए इंटरनेशनल क्रिकेट को अलविदा , या फिर से होगी उनकी वापसी ?

खेलकुद

यह बात तो बिलकुल सच है की जीवन में कुछ भी हमेशा के लिए नही रहता , और बात आजकल पाकिस्तान क्रिकेट टीम की करे, तो शाहिद अफरीदी के क्रिकेट करियर को हम इससे बखूबी जोड़ के देख सकते है। शाहिद अफरीदी , बेहद शानदार क्रिकेटर है। दुनिया में सभी क्रिकेट के दीवाने उनके बारे में जानते है। उनके फैंस भी उनकी रिटायरमेंट की बात को हजम नही कर पा रहे हैं। इसी हफ्ते , पाकिस्तान सुपर लीग के बीच में ही अफरीदी ने सोशल मीडिया अकाउंट पर एक फेयरवेल पोस्ट और एक वीडियो साझा किया, जिसके कैप्शन में उन्होंने लिखा ”गुड बाय to PSL, my body is in serious pain” अफरीदी का क्रिकेट को अलविदा कहना का सफर काफी धीमे चला पहले टेस्ट ODIs,T20 और अब फ्रेंचाइजी क्रिकेट। शाहिद के दुनिया भर के फैंस बस उनके रिटायरमेंट को वापस लेने की दुआ में बैठे है।

क्या शाहिद लेंगे इंटरनेशनल क्रिकेट में वापसी ?

घुटने की चोट से उबर रहे पाकिस्तान के पूर्व आलराउंडर शाहिद अफरीदी का प्रतिस्पर्धी क्रिकेट से संन्यास लेने का फिलहाल कोई इरादा नहीं है. अफरीदी ने दुबई में अपने चिकित्सक से मशविरा करने के बाद ट्वीट किया कि उन्हें पूरी तरह फिट होने के लिए दो से तीन हफ्ते के आराम की सलाह दी गई है. गौरतलब है कि शाहिद अफरीदी दुबई में पाकिस्तान सुपर लीग में कराची किंग्स की तरफ से खेलते हुए अभ्यास सत्र के दौरान चोटग्रस्‍त हो गए थे. इस वजह से वे टूर्नामेंट के प्लेऑफ मैचों में नहीं खेल पाए थे.

अफरीदी ने अपने ट्विटर हैंडल पर लिखा, ‘दुबई में अपने चिकित्सक को दिखाने के लिये गया था. घुटना अभी पूरी तरह से सही नहीं हुआ है. मुझे अभी तीन-चार सप्ताह और चाहिए. उम्मीद है कि उसके बाद पूरी फिटनेस हासिल कर लूंगा. मेरे लिये दुआएं करते रहें.

पाकिस्तान के चर्चित आलराउंडर क्रिकेटर शाहिद अफरीदी ने रविवार को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने की घोषणा कर दी. इस तरह उनका 21 साल का अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट का शानदार और कभी-कभी विवादास्पद कैरियर समाप्त हो गया.

अफरीदी ने जारी माह की शुरुआत में ही संकेत दे दिए थे कि उनका अंतरराष्ट्रीय करियर लगभग खत्म हो गया है. उन्होंने कहा था कि वह अब फ्रीलांस क्रिकेटर बनना चाहते हैं और दुनिया भर में लीग में खेलने का आनंद लेना चाहते हैं.

इस 36 वर्षीय क्रिकेट स्टार ने पहले ही टेस्ट और वनडे क्रिकेट को अलविदा कह दिया था. हालांकि 2016 में भारत में हुई टी20 वर्ल्ड चैंपियनशिप में अफरीदी पाकिस्तान टी20 टीम के कप्तान थे. टूर्नामेंट के बाद वे कप्तान पद से हट गए, लेकिन एक खिलाड़ी के रूप में खेल के छोटे प्रारूप में अपना कैरियर जारी रखा.

शाहिद अफरीदी क्रिकेट प्रेमियों के दिलों में तब से बस गए थे जब सन 1996 में श्री लंका के खिलाफ खेलते हुए उन्होंने सिर्फ 37 बॉलों पर शतक बना डाला था. यह उनका दूसरा ही मैच था. उनके इस रिकॉर्ड को 17 साल तक कोई नहीं तोड़ पाया. अपने करियर के उत्तरार्ध में अफरीदी बॉलिंग ऑलराउंडर के रूप में स्थापित हो गए. टी-20 क्रिकेट में पाकिस्तान की शुरुआती सफलता का दारोमदार अफरीदी पर ही रहा. वर्ष 2009 में पाक की जीत में उनकी महती भूमिका रही. अफरीदी ने अपने इंटरनेशनल क्रिकेट करियर में 27 टेस्ट मैच खेले. इन मैचों में उन्होंने 1176 रन बनाए. उनका उच्चतम स्कोर 156 रहा. उन्होंने 48 विकेट लिए.

एक दिवसीय मैचों के मामले में अफरीदी ने कुल 398 मैच खेले. इनमें उन्होंने 8,064 रन बनाए. वनडे में अफरीदी का उच्चतम स्कोर 124 रनों का है. लेग स्पिन गेंदबाजी से अफरीदी ने कुल 395 विकेट झटके. टी20 में उन्होंने कुल 98 इंटरनेशनल मैच खेले. इनमें उन्होंने 1405 रन बनाए. उन्हें कुल 97 विकेट हासिल हुए.

Leave a Reply

Your email address will not be published.