Home / खबरे / टिहरी के रोहित चमोली ने अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिता में गोल्ड मेडल जीत देश का नाम किया रोशन, पिता हैं कुक,

टिहरी के रोहित चमोली ने अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिता में गोल्ड मेडल जीत देश का नाम किया रोशन, पिता हैं कुक,

उत्तराखंड की होनहार युवा प्रदेश का मान सम्मान बढ़ा। रहा है।  देश सेवा, चिकित्सा, खेल या फिर सिविल सर्विसेज..हर जगह उत्तराखंड की होनहार युवाओं ने अपना परचम लहराया है। इसी कड़ी में टिहरी के रोहित चमोली का नाम जुड़ गया है। रोहित के पिता कुक है। लेकिन रोहित ने अपनी आर्थिक स्थिति को कभी अपने जुनून के आगे नहीं आने दिया। कड़ी मेहनत और संघर्ष के दम पर रोहित ने एशियाई जूनियर मुक्केबाजी चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीता है। रोहित ने अपने पंच से न सिर्फ अपने गांव ,प्रदेश का नाम रोशन किया है बल्कि देश का नाम रोशन कर दिया है।

आपको बता दें की टिहरी जनपद के पलाम गांव निवासी 16 वर्षीय रोहित चमोली ने कड़े फाइनल मुकाबले में मंगोलिया के ओटगोनबयार तुवशिंजया को 3-2 से हराया।वह बचपन से ही मुक्केबाजी की दुनिया में नाम कमाना चाहते थे। रोहित के दादा चंद्रमणी चमोली ( 80 वर्षीय) और दादी सत्तू देवी (73 वर्षीय) पलाम गांव में रहते हैं। रोहित के पिता जयप्रकाश रोजी-रोटी की तलाश में चंड़ीगढ़ गए थे और वहीं बस गए। इसके बाद रोहित और परिवार के अन्य सदस्यों को भी अपने साथ चंड़ीगढ़ ले गए। अभी वर्तमान में जयप्रकाश चंड़ीगढ में एक होटल में कुक की नौकरी करते हैं।

जब वे अपनी चचेरी बहन मीनाक्षी को मुक्केबाजी करते हुए देखते, तो उन्होंने अपना लक्ष्य मुक्केबाजी को बना दिया। शुरूआती दिनों में मीनाक्षी ने रोहित को मुक्केबाजी का प्रशिक्षण दिया। इसके बाद रोहित को जोगिंदर कुमार का सान्निध्य प्राप्त हुआ। रोहित के बचपन का जुनून रंग लाया और अपनी कड़ी मेहनत, लगन व धैर्य के साथ परिश्रम कर जूनियर एशियन चैंपियनशिप में गोल्ड मेडल जीतकर टिहरी के साथ ही पूरे देश का मान बढ़ाया है। रोहित की कामयाबी से प्रदेश में खुशी की लहर है।