अगर बना रहे है 2020 में ऑली जाने का प्लान तो जानिए कुछ खुबसूरत स्थानों के बारे में।

पर्यटन प्रकृति

 

भारत के उत्तराखंड में स्थित, औली है जो करीब 5-7 किमी छोटा सा स्की- रिर्सोट है। यह स्थान हरे-भरे देवदार के पेड़ो से घिरा हुआ है। यह स्थान विभिन्न प्रकार की वनस्पतियों और जीवों के लिए घर होने के अलावा, यह कई तरह के साहसिक गतिविधियों जैसे स्कीइंग, ट्रेकिंग और कैम्पिंग के लिए जाना जाता है। औली के उत्तर में, बद्रीनाथ मंदिर है जो हिंदुओं के सबसे पवित्र तीर्थ स्थलों में से एक है।


यहां पर आपको एक और अन्य आकर्षण वैली ऑफ फ्लॉवर्स नेशनल पार्क है जो अल्पाइन वनस्पतियों और वन्यजीव जैसे हिम तेंदुओं और लाल लोमड़ियों के लिए प्रसिद्ध है। पर्यटकों के बीच बढ़ती लोकप्रियता चलते औली पर्यटकों के लिए मनपसंद गंतव्य में से एक है।

औली घूमने का सही समय

बर्फ़ से ढके पहाड़ों का आनंद लेने के लिए एक दिसंबर से फरवरी के बीच अपनी यात्रा का कार्यक्रम तय कर सकते है। इसके अलावा, यदि आप गर्मी से राहत की तलाश में है तो आप मई और जून के महीनों के बीच यात्रा का चयन कर सकते है। यहां की शरद ऋतु भी बहुत सुंदर और सुखद होती है तो, जुलाई से सितंबर के महीनों के बीच औली ट्रिप के लिए अपने टिकट बुक कर सकते है।

औली के मुख्य आकर्षण

“गुरसो बुग्याल”


समुद्रतल से 3056मी. ऊपर स्थित गुरसो बुग्याल, औली से 3कि.मी. दूर है। यह जगह गर्मियों के दौरान हरेभरे प्रकृतिक दृश्यों के लिए जानी जाती है। यहाँ चारों ओर कोनिफर और ओक के जंगल हैं। जोशीमठ से रज्जुमार्ग के द्वारा यहाँ पहुँचा जा सकता है। आवासीय सुविधाएँ न होने के कारण यात्री दिनभर यहाँ घूमकर रात को औली लौट जाते हैं। आप एक छोटी सी झील, चत्तरकुंड भी देखने के लिए आ सकते हैं, क्योंकि यह गुरसो बुग्याल से केवल 1कि.मी. दूर स्थित है। यह झील साफ और मीठे पानी के लिए लोकप्रिय है।

“क्वानी बुग्याल”


यह समुद्र तल से लगभग 3300 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। गोर्सन बुग्याल से 12 किलोमीटर दूर, यह स्थान ट्रेकर्स के लिए बेहद उपयुक्त माना जाता है। यह जोशीमठ औली और गुरसो बुग्याल के बीच में स्थित है। यह प्रकृति की गोद में बसा ऐसा स्थान है जहां आनंद लेने के लिए एक शानदार जगह है।

“औली रोपवे”


उत्तराखंड के चमोली जिले में हिमालय की पहाड़ियों पर स्थित औली स्की के लिए एक गंतव्य है. गढ़वाली में औली को औली बुग्याल अर्थात् “घास के मैदान” के नाम से जाना जाता है. यह समुद्रतल से 2500 मी० (8200 फीट) से 3050 मी० (10,010 फीट) तक की ऊंचाई पर स्थित है. औली जोशीमठ से सड़क या रोपवे के माध्यम से पहुंचा जा सकता है. यहाँ से नंदादेवी, कमेट तथा दूनागिरी जैसे विशाल पर्वत चोटियों का मनोरम दृश्य दिखाई देता है. आमतौर पर जनवरी से मार्च तक औली की ढलानों पर लगभग 3 मी० गहरी बर्फ की चादर बिछी होती है. औली में स्थित 500 मी० के ढलान के साथ 3 किमी विस्तार वाला मैदान अंतर्राष्टीय मानक के अनुसार एक बहुत अच्छा स्कीइंग ग्राउंड माना जाता है.

“त्रिशूल चोटी”


सबसे लोकप्रिय औली पर्यटन स्थलों में से एक त्रिशूल चोटी है जो पश्चिमी कुमायूं में तीन हिमालय पर्वत चोटियों पर बसा है। यह समुद्र तल से 7,120 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है।
“जोशीमठ”
यह भारत के अभिन्न तीर्थ स्थलों में से एक है जो आदि गुरु शंकराचार्य द्वारा स्थापित कई हिंदू मंदिरों को समेटे हुए है। जबकि यह मुख्य रूप से धार्मिक महत्व है,इसके अलावा जोशीमठ एक लोकप्रिय पर्यटन स्थल भी है।

“रुद्रप्रयाग”


उत्तराखंड” जो कि ऐसे ही कई धार्मिक और पौराणिक कथाओं के लिए प्रसिद्द है। यहाँ के कई स्थल सिर्फ पर्यटक स्थल के रूप में ही नहीं, पवित्र तीर्थस्थलों के रूप में भी लोकप्रिय हैं। उत्तराखंड के पंचप्रयागों में से एक “रुद्रप्रयाग” का अपना महत्व है | केदारनाथ धाम की ओर से आती मंदाकनी और दूसरी ओर से आती अलकनंदा जिस स्थान में मिलती है | उस स्थान को “रुद्रप्रयाग” के नाम से जाना जाता है | भगवान शिव को “रूद्र” नाम से भी संबोधित किया जाता था | इसलिए “रूद्र” नाम से इस संगम का नाम “रुद्रप्रयाग” रखा गया है | इस क्षेत्र में अलकनंदा व मन्दाकिनी नदियों के संगम पर भगवान रूद्रनाथ का प्राचीन मंदिर भी स्थित है | केदारनाथ भी रुद्रप्रयाग जनपद में स्थित है | प्रसिद्ध धर्मस्थल “केदारनाथ धाम” रुद्रप्रयाग से 76 किलोमीटर की दुरी पर स्थित है |

“चिनाब झील”


चिनाब झील एक सुंदर झील है जो डांग पर स्थित है। डांग एक छोटा सा गांव है। इस झील तक पैदल यात्रा करते हुए एक संकरे रास्ते से पहुंचा जा सकता है।

“नंदा देवी शिखर”


यदि आप औली में घूमने के लिए स्थानों की यात्रा की योजना बना रहे हैं, तो नंदा देवी शिखर की यात्रा जीवन भर के लिए एक यादगार यात्रा होगी। 23 वीं सबसे बड़ी चोटी होने के कारण, इस जगह पर पर्यटकों का ध्यान नहीं जाता है और सभी औली आकर्षणों के बीच अवश्य जाना चाहिए। यह चोटी एक प्रसिद्ध ट्रेकिंग गंतव्य है और इसे औली में घूमने के लिए सबसे अच्छे स्थानों में से एक माना जाता है। जो लोग ट्रेकिंग का शौक रखते हैं और औली में यात्रा पर जाते समय चीजों को तलाशते हैं, वे इस मौके को अपने आंतरिक रोमांच का पता लगाने के लिए मान सकते हैं।

“सेलधर तपोवन”


शिलाधर औली के आकर्षण का एक प्रसिद्ध स्थल है क्योंकि गर्म झरने की मौजूदगी के कारण यह घटनास्थल से लगभग 3 किलोमीटर दूर स्थित है। औली में देखने के लिए स्थान अविस्मरणीय होंगे यदि आप सेलधर तपोवन की यात्रा की योजना बना रहे हैं। एक सांस्कृतिक प्रदर्शन की पेशकश के अलावा, इस गंतव्य में बहुत सारे अन्य आयात हैं, जिन्होंने पर्यटकों के लिए योग्य जगह बनाई है और सभी औली आकर्षणों में अवश्य जाना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.