अगर आप भी करते है यह 6 काम तो दिशाहो का रखे विशेष ध्यान

वास्तूशास्त्र

वास्तुशास्त्र में हर दिशा का अपना एक महत्व है जो इन दिशाओ के अनुसार कार्य करता है उनको अपने काम में यश प्राप्त होता है। और उनका कारोबार आगे बढ़ता है। आइए जानते हैं कि वास्तु एवं ज्योतिष का ध्यान रखते हुए अपने लिए सही दिशा का निर्धारण कैसे किया जाए जिससे दुकान, कैरियर तथा धन के मामले में लाभ प्राप्त हो सके।

1. वास्तुशास्त्र के अनुसार, उत्तर की दिशा को कामयाबी की दिशा माना जाता है। इसलिए किसी भी नए काम को आरम्भ करते वक़्त शख्स को अपना मुंह उत्तर दिशा की ओर रखना चाहिए।

2. घर में पूजा घर को सकारात्मक ऊर्जा का केंद्र बिंदु माना जाता है। इसलिए पूजा करते वक़्त शख्स को अपना मुंह पश्चिम दिशा की ओर रखना चाहिए। तथा यदि ऐसा संभव न हो तो पूर्व दिशा की ओर मुंह करके भी आराधना किया जा सकता है।

3. वास्तु शास्त्र के मुताबिक, पूर्व की दिशा बच्चों की पढ़ाई के लिए शुभ होती है। ऐसा माना जाता है कि जो बच्चे पूर्व दिशा की ओर मुंह करके पढ़ाई करते हैं उन्हें कामयाबी अवश्य प्राप्त होती है।

4. वास्तु शास्त्र के अनुसार, दुकान के मालिक या दफ्तर के बॉस को अपने दुकान अथवा दफ्तर में हमेशा उत्तर दिशा की ओर मुंह करके बैठना चाहिए। ऐसा करने से कार्य में कामयाबी प्राप्त होती है।

5. घर के किचेन में खाना बनाते वक़्त भी दिशा का ध्यान रखना चाहिए। वास्तु के अनुसार, किचेन में खाना बनाने वाले का मुंह पूर्व अथवा उत्तर-पूर्व की ओर रहना चाहिए।

6. खाना खाते वक़्त भी दिशा का ध्यान रखना चाहिए। ऐसा करने से भोजन करने वाले को भोजन की पूरी ऊर्जा प्राप्त होती है। वास्तु शास्त्र के अनुसार, खाना खाते वक़्त शख्स का मुंह पूर्व या फिर उत्तर दिशा की ओर होना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.