लॉकडाउन खुलते ही हो गई लापता हल्द्वानी की 14 लड़कियां

खबरे शहर

कोरोना और इसके चलते लगे लॉकडाउन ने लोगों की जिंदगी पूरी तरह बदल दी। लॉकडाउन में जब ज्यादातर लोग घरों में कै”द थे, ठीक उसी वक्त हल्द्वानी में रह रही कुछ ल”ड़”कि’यां अपने घर के ‘लॉकडाउन’ को तोड़कर बाहर निकलने का प्लान बना रही थीं। लॉकडाउन खुलते ही उन्हें ये मौका भी मिल गया। अनलॉक की शुरुआत होते ही हल्द्वानी में घरों में बंद 14 लड़कियां घरों से अचानक गा”य’ब’ हो गईं। आप भी सोच रहे होंगे कि आखिर मा”ज”रा क्या है। दरअसल लॉकडाउन में घरों में बं”द’ ‘ये लड़”कि”यां’ मौका मिलते ही अपने प्रे”मि”यों” सं”ग” फ”रा”’र’ हो गईं।

जागरण की खबर के मुताबिक परिजनों ने पु”लि”स’ ”था”नों” में उनकी गु”म”शु’द”गी ”की ”रि”’पो’र्ट भी द”र्ज” करा दी। कई महीनों की मशक्कत के बाद जब पुलिस इन लड़कियों तक पहुंची तब भी कई पा”प”ड़” बेलने पड़े। प्रे”मी” सं”ग’ फ”रा”र” हुई लड़कियों को जैसे-तैसे सखी वन स्टाप सेंटर पहुंचाया गया।सखी वन स्टॉप सेंटर में कुछ दिनों के लिए गाइडिंग चली। जिसके बाद कुछ युवा महिलाओं ने वापस जाने के लिए सहमति जताई, जबकि कुछ घर नहीं लौटीं। पु”लिस ने भर्ती हुई युवतियों को काठगढ़िया के वन स्टॉप सेंटर भेज दिया। पुनर्निर्मित युवा महिलाओं को 14 से 30 साल तक परिपक्व किया जाता है। पुलि”स ने कहा कि जब एक युवा महिला सिर्फ 14 साल की थी,

तो कुछ युवा महिलाओं की उम्र 30 साल थी। कई युवा महिलाओं को घर पर सेट नहीं किया गया था। हल्द्वानी की एक 18 वर्षीय युवा महिला ने सलाह देने के दौरान कहा कि जानेमन के साथ क्या हो रहा है। हम अकेले ही गए। रिश्तेदारों ने दृढ़ता से गायब होने को रिकॉर्ड किया। सखी वन स्टॉप सेंटर की निदेशक और मार्गदर्शिका, सरोजनी जोशी ने कहा कि क्राउन टेस्ट का नेतृत्व सबसे पहले युवा महिलाओं के लिए किया गया था। कुछ युवा महिलाओं को घर भेजने के लिए उन्हें कई बार निर्देशित किया गया था। परिवारों को एक टन अतिरिक्त रूप से स्पष्ट किया गया था, उस बिंदु पर जिन युवा महिलाओं को भर्ती किया गया था, उन्हें उनके घर भेज दिया जा सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.