उत्तराखंड में लोगों ने गाड़ियों पर लगाए हैं ऐसे ऐसे ‘जुगाड़’..

खबरे शहर

जुगाड़ वाहनों के खिलाफ अब उत्तराखंड में सख्ती बरती जा रही है। जुगाड़ वाहन बना कर चलाने के ऊपर पाबंदी लग रखी है और सख्त कानून है मगर उसके बावजूद भी उत्तराखंड में लोग धड़ल्ले से जुगाड़ वाहन चला रहे हैं। वहीं उत्तराखंड में अब जुगाड़ वाहन मालिकों के खिलाफ सख्ती बरती जा रही है और जम के चालान काटे जा रहे हैं। यहां तक कि वाहनों को सीज किया जा रहा है और मौके पर काटा भी जा रहा है। उत्तराखंड में हाल ही में आरटीओ प्रवर्तन दल की टीम द्वारा जुगाड़ वाहनों के खिलाफ अभियान चलाया गया। जब आरटीओ की टीम सड़कों पर उतरी तो सड़कों पर हाल देख कर बुरी तरह चौंक गई।अभियान के दौरान टीम ने कुल 58 जुगाड़ वाहनों के चालान काटे, जबकि 39 वाहन सीज किए गए। आइये बताते हैं कि किन जिलों में आरटीओ ने जुगाड़ वाहनों के खिलाफ अभियान चलाया था। आरटीओ प्रवर्तन दल ने हरिद्वार, ऋषिकेश, रुड़की और विकासनगर में जुगाड़ वाहनों खिलाफ अभियान चलाया था। अभियान के दौरान टीम को जुगाड़ वाहन बेहद वजन उठाते नजर आए।

चेकिंग ड्राइव के दौरान, समूह ने 58 जुगाड़ वाहनों के चालान काटे। इसके साथ ही, 39 वाहनों को जब्त कर लिया गया। समूह ने मौके पर 10 जुगाड़ वाहनों को काट दिया। इसी के साथ, वे इसी तरह जुगाड़ वाहन नहीं चलाने के लिए प्रशिक्षित थे। रुड़की में, विज्ञापनदाता पार्टी द्वारा सबसे अधिक संख्या में चालान काटे गए और सबसे बड़ी संख्या में वाहनों को भी जब्त किया गया। देहरादून से आरटीओ प्रवर्तन संदीप सैनी ने कहा कि समूह ने हरिद्वार से 11 जुगाड़ वाहनों के चालान काटे और 11 वाहनों पर कब्जा किया।

देहरादून में, कार्यान्वयन समूह ने 11 जुगाड़ वाहनों के चालान काटे। जबकि 7 वाहनों को जब्त किया गया और मौके पर 5 वाहनों को काटा गया। ऋषिकेश की चर्चा करते हुए, ऋषिकेश के विज्ञापन समूह ने 5 वाहनों के चालान काटे। 5 जुगाड़ वाहन जब्त किए गए जबकि 5 जुगाड़ वाहन मौके पर काट दिए गए। रुड़की पर चर्चा करते हुए, 23 जुगाड़ वाहनों के चालान काटे गए और 12 वाहनों को रुड़की में जब्त किया गया। विकासनगर में मिशन के एक फीचर के रूप में 8 जुगाड़ वाहनों के चालान काटे गए। 4 जुगाड़ वाहन जब्त किए गए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.