इस जिले में लगा 48 घंटे का लॉकडाउन उत्तराखंड के, रहेंगे सभी प्रतिष्ठान बंद..

खबरे शहर

प्रदेश में कोरोना संक्रमित मरीजों का आंकड़ा 90 हजार पार हो गया है। हर दिन कोरोना संक्रमण के सैकड़ों नए केस मिल रहे हैं। मैदानों के साथ-साथ पहाड़ी क्षेत्रों में भी स्थिति बिगड़ी है। सूबे के एक जिले में तो 48 घंटे का लॉकडाउन लगाना पड़ा है। इस जिले का नाम है पिथौरागढ़। सीमांत जिला पिथौरागढ़ के गंगोलीहाट विकासखंड में एक बार फिर 48 घंटे का लॉकडाउन लगा दिया गया है। वजह वही है, कोरोना संक्रमण के बढ़ते केस। गंगोलीहाट मुख्यालय में बीते 23 दिसंबर से चार दिनों के लिए लॉकडाउन लगाना पड़ा था। अब गणाई गंगोली में भी लॉकडाउन लगा दिया गया है। कोरोना की रफ्तार रोकने के लिए प्रशासन ने यहां लॉकडाउन लगाने का फैसला लिया है। लॉकडाउन की अवधि बुधवार यानि आज से शुरू हो गई। आज सुबह 7बजे से अगले 48घंटे तक यहां लॉकडाउन रहेगा। गंगोलीहाट विकासखंड में कोरोना संक्रमण तेजी से पैर पसार रहा है। यहां दो राजस्व उपनिरीक्षक कोरोना पॉजिटिव मिले। जिसके बाद गंगोलीहाट तहसील दो दिनों के लिए सील करनी पड़ी।

संगठन ने प्रगति पर ब्रेक लगाने के लिए शहर के क्षेत्र में चार दिनों तक तालाबंदी की। वर्तमान में गनाई गंगोली में क्राउन संदूषण के उदाहरण तेजी से बढ़ रहे हैं। कार्यकर्ता के गिल्ड ने यहां 48 घंटे के लिए तालाबंदी का अनुरोध किया था। डीलरों के हित में लॉकडाउन के आदेश दिए गए थे। तालाबंदी का दौर शुरू हो गया है। गनई गंगोली में, शेष बुनियादी प्रशासनों से अलग 48 घंटों के दौरान कोई भी शेष नींव पूरी तरह से बंद हो जाएगी। गंगोलीहाट एसडीएम भगत सिंह फोनिया ने कहा कि तहसील में आय उप-लेखा परीक्षकों को ताज को दूषित होने का पता चलने के बाद तहसील को दो दिनों के लिए बंद कर दिया गया है। तहसील में काम दो दिनों के लिए समाप्त हो जाएगा। वहां तैनात सभी प्रतिनिधियों के टेस्ट लिए जाएंगे। इसके अलावा, गाई गंगोली में दो दिनों के लिए कामगार की सुरक्षा के लिए एक तालाबंदी को मजबूर किया जा रहा है। क्षेत्र में मुकुट संदूषण के विस्तार के उदाहरण हैं, इसलिए व्यक्तियों को मुकुट के प्रतिरूप के बारे में जानना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.