एक चूहे की वजह से उत्तराखंड के 215 गांवों की बत्ती हुई गुल..

खबरे प्रकृति शहर

बीते रविवार की सुबह तकरीबन साढ़े 7 बजे बागेश्वर के कपकोट में बिजली घर के इनकमिग फीडर के अंदर अचानक से एक चूहा घुस गया। चूहा घुसते ही बिजली घर के अंदर तार आपस में टकरा गए और एक जोरदार आवाज के साथ जबरदस्त धमाका हुआ है। धमाके से बिजली घर के अंदर कोहराम मच गया। धमाका इतना जबरदस्त था कि 215 गांवों की बिजली आपूर्ति ठप हो गई है। धमाके में फीडर पूरी तरह बर्बाद हो गया है। वह तो अच्छा हुआ कि चूहे के कारण लगी आग ने बिजलीघर को नहीं जलाया वरना बहुत बड़ा नुकसान हो जाता। इससे कपकोट तहसील के 215 गांव की बिजली आपूर्ति ठप हो गई है। घटना के बाद से ही वहां पर कोहराम मचा हुआ है और सभी गांव में बिजली को वापस चालू करने के लिए मरम्मत कार्य किया जा रहा है। निगम के कर्मचारी बिजली घर को हुए नुकसान की मरम्मत करने में जुटे हुए हैं। आज सुबह 11 बजे तक बिजली की वैकल्पिक व्यवस्था कर दी गई और बिजली व्यवस्था सुचारु करने की भी कोशिश की जा रही है।

बल में बंध्याकरण कार्यालयों की अनुपस्थिति के कारण के साथ, यह कृन्तकों और गिलहरियों के लिए बुनियादी है कि उनके साथ प्रतिध्वनित होने वाली ताकतों में चला जाए और वे बहुत नुकसान पहुंचाते हैं। इस तरह के एपिसोड को नियमित रूप से लापरवाह होने के कारण बलों के भीतर लापरवाही के साथ रखा जाता है, हालांकि यह इसी तरह तनावपूर्ण है। इसके बावजूद, अभी तक विद्युत विभाग द्वारा ऐसी घटनाओं की जांच के लिए कोई ठोस कदम नहीं उठाया गया है। बल के अंदर रखे गए लाखों रुपये के एप्रोच्यूज़ इसी तरह थोड़े से अभाव के कारण टूट जाते हैं। यह महत्वपूर्ण है कि ऊर्जा विभाग को सेनाओं की शालीनता पर अद्वितीय विचार करना चाहिए, ताकि उनके साथ जीवों को घर के अंदर प्रवेश न कराया जा सके, जैसे कृंतक, गिलहरी जैसे जीव और लाखों मशीनों की कोई कमी नहीं है। कपकोट के बागेश्वर में, कृन्तकों के खंड द्वारा लाए जाने वाले बल को नुकसान पहुंचाया जा रहा है। जैसा कि ऊर्जा निगम के कार्यकारी अभियंता भास्कर पांडे ने संकेत किया है, प्रभाव ने फीडर को पूरी तरह से समाप्त कर दिया है। आज सुबह 11 बजे तक, सभी शहरों के अंदर सत्ता के लिए वैकल्पिक खेल की योजना बनाई गई है, फिर भी फिक्स काम का एक बड़ा हिस्सा अभी तक होना बाकी है और संगठन के प्रतिनिधियों को फिक्स बनाने में कब्जा कर लिया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.