बद्रीनाथ मा’स्ट’र प्ला’न के लि’ए पीएम मोदी ने दी स’ला’ह कहा धाम का पौरा’णिक व आध्या’त्मि’क मह’त्व ब’ना रहे।

खबरे धर्म पर्यटन प्रकृति शहर

 

पीएम मोदी के स’म’क्ष श्री ब’द’रीना’थ धा’म का मा’स्ट’र प्ला’न रखा गया वह केदारनाथ पुनर्नि’र्मा’ण की जा’नका’री भी दी गई। पीएम ने साफ किया कि श्री बद’रीनाथ धाम के मा’स्ट’र ‘प्ला’न’ में इस बात का वि’शे’ष ध्या’न र’खा’ जाए कि व’हां’ का पौराणिक और आध्या’त्मि’क मह’त्व बना रहे। उन्हों’ने इ’से मि’नी स्मा’र्ट और आ’ध्यात्मिक सि’टी’ के रूप में वि’क’सि’त क’र’ने के निर्दे’श दिए।
पीएम मोदी ने कहा कि बद’रीनाथ धाम के निकटव’र्ती अ’न्य’ आध्या’त्मि’क स्थ’लों’ को भी ‘इ’स’से जो’ड़’ने को क’हा। क’हा कि बदरीनाथ धाम के प्रवेश स्थल पर वि’शे’ष लाइ’टिं’ग की व्य’व’स्था हो, जो आध्या’त्मि’क वा’ता’व’रण के अ’नु’रू’प हो। बद्रीना’थ का मा’स्ट’र प्ला’न’ का स्व’रू’प पर्यट’न पर आधा’रि’त न हो’क’र’ ‘ब’ल्कि’ पू’र्ण’ रूप से आ’धा’त्मि’क ‘हो। उन्होंने’ हो’म स्टे भी वि’क’सि’त जाने पर जोर दिया। प्रधानमंत्री ने के’दार’ना’थ धा’म के पुन’र्नि’र्मा’ण का’र्यों की भी स’मी’क्षा की। मु’ख्य स’चि’व ओमप्र’का’श ने के’दार’ना’थ धा’म के पु’नर्नि’र्मा’ण का’र्यों की प्रग’ति’ की जा’नका’री देते हुए बताया कि शं’करा’चार्य जी के स’मा’धि स्थ’ल का का’म’ ते’जी’ से चल ‘र’हा’ है। स’र’स्व’ती’ घा’ट’ पर आ’स्था’ प’थ’ का का’म’ पू’रा’ हो गया है।

पीएम मोदी के साम’ने वीडियो कांफ्रेंसिग से श्री बदरीनाथ धा’म के मा’स्ट’र प्ला’न’ पर ‘प्र’जे’न्टें’श’न’ दिया गया। इसमें मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र रावत देहरादून से, पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज, मुख्य सचिव ओमप्रकाश, सचिव दिलीप जावलकर दिल्ली से जुड़े। दो ध्यान गुफाओं का काम इस महीने के अं’त तक पू’रा हो’गा। ब्रह्म कमल की नर्सरी के लिए स्था’न’ चि’न्हि’त’ कर लिया गया है। न’र्स’री के लिए बी’ज’ ए’कत्री’क’र’ण का कार्य किया जा रहा है। ब्रि’ज का पु’नर्नि’र्माण’ क’र लि’या ग’या है।

2025 तक पूरा होगा ब’दरी’नाथ धा’म मा’स्ट’र प्ला’न


सचिव पर्यटन दिलीप जावलकर ने बदरीनाथ धाम के मास्टर प्लान की जानकारी देते हुए बताया कि इसमें 85 हैक्टेयर क्षेत्र लिया गया है। यहां देवदर्शिनी स्थल विकसित होगा। एक संग्रहालय व आर्ट गैलेरी बनाई जाएगी। लाइट एंड साउंड सिस्टम के जरिए दशावतार के बारे में जानकारी दी जाएगी। बदरीनाथ मास्टर प्लान को 2025 तक पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है। मास्टर प्लान को पर्वतीय परिवेश के अनुकूल बनाया गया है।

साल भर होगा का’म

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र रावत ने कहा कि बदरीनाथ धाम व केदारनाथ धाम के विकास कार्यों में स्थानीय लोगों का सहयोग मिल रहा है। नजदीक के गांवों में होम स्टे पर काम हो रहा है। सरस्वती व अलकनंदा के संगम स्थल केशवप्रयाग को भी विकसित किया जाएगा। बदरीनाथ धाम में व्यास व गणेश गुफा का विशेष महत्व है। इनके पौराणिक महत्व की जानकारी भी श्रद्धालुओं को दी जाएगी। बदरीनाथ धाम के मास्टर प्लान पर काम करने में भूमि की समस्या नहीं होगी। केदारनाथ की तरह बद्रीनाथ में भी 12 महीने काम होगा। सभी काम तय समय पर पूरे किए जाएंगे।


ऑल वेदर रोड से बढ़ेंगी सुविधाएं
पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने कहा कि ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेल परियोजना और चारधाम राजमार्ग परियोजना पर तेजी से काम चल रहा है। इससे श्रद्धालुओं के लिए चारधाम यात्रा काफी सुविधाजनक हो जाएगी

Leave a Reply

Your email address will not be published.