देहरादून में प्रॉप”र्टी खरीद के नाम पर हुआ ब”ड़ा …………..

खबरे शहर

देहरादून में दूसरों के मकान दिखाकर बैंक के साथ फ्रॉ”ड करने का सन’स’नी’खे’ज’ मा’म’ला’ सामने आया है। आ”रो”पि”यों” ने किसी और के मकान दिखाकर बैंक से 97 लाख 60 हजार रुपये का लोन लिया और इस रकम को डका”र गए। बैंक लोन की किस्तें भरने के लिए नोटिस भेजता रहा, लेकिन किस्त नहीं भरी गईं। ग”ड़”ब”ड़ी” का अंदेशा होने पर बैंक ने जां”च शुरू की तब कहीं जाकर मा”म”ले का खु”ला”सा हो सका।

अब इस मामले में नेहरू कॉलोनी पु”लि”’स” ने 8 लोगों के खि”’ला”फ के”स” दर्ज किया है। आ”रोपि”’यों” ने दूसरे के मकान दिखाकर आईडीबीआई बैंक से 97 लाख 60 हजार रुपये का लोन लिया था। इस संबंध में आईडीबीआई के सहायक महाप्रबंधक प्रशांत आनंद ने आ”रो”पि”यों” के खिलाफ केस ”द”र्ज” कराया है। चलिए पूरा मा”म”ला” बताते हैं। साल 2017 में कृष्ण कुमार अग्रवाल, प्रविंद्र सैनी, अर्जुन, बिट्टू कुमार, सुमित कुमार, अमर सिंह, गोपाल सिंह और नवीन अग्रवाल ने बैंक से लोन लिया था।

यह खोल 17 पत्तियों और जड़ों की एक राशि को पाउंड करके बनाया गया है जिसमें वुडलैंड्स के पुनर्स्थापनात्मक गुण हैं। काफी समय तक नाजुक होने के बाद, यह सर्कल शेड्यूल पर सूख जाता है और जब इसकी आवश्यकता होती है, तो शेल को तोड़ दिया जाता है और धीरे से पानी के साथ मिश्रित किया जाता है, और इसका गोंद बनाया जाता है। उसके बाद जहां एक मलबे की हड्डी होती है, इस सर्कल के गोंद को लागू किया जाता है और बाद में एक कपास सामग्री के साथ जोड़ा जाता है। शहरवासी गारंटी देते हैं कि इस सर्कल को लागू करने के 3 दिनों के बाद, हड्डियों के खिंचाव के साथ-साथ पीड़ा में एक भारी कमी आती है और चौथे दिन, धुंध की तरह एक आवरण खोला जाता है और गड़बड़ हुई हड्डी को जोड़ा जाता है। पहले तो कुछ लोगों ने इस चक्र का इस्तेमाल सहयोगियों के परामर्श पर करना शुरू किया।

इसके प्रदर्शन के साथ, वर्तमान में इसकी रुचि का विस्तार हुआ है। वर्तमान में, उत्तराखंड के हल्द्वानी, रामनगर, पिथौरागढ़, रानीखेत, अल्मोड़ा सहित उधम सिंह नगर के स्थानों में, व्यक्तियों को एक बोझाड़ी गोला का उपयोग करके एक विशेषता मार्ग में कुछ दिनों में हड्डियों को जोड़ने के लिए एक रामबाण इलाज मिल रहा है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.