आज भी मौजूद है देवभूमि में दुनिया का एकमात्र खूबसूरत शहर..

खबरे धर्म शहर

हाल ही में सोमवार को भैरव अष्टमी बीती और भैरव अष्टमी के दिन सांस्कृतिक नगरी माने जाने वाली अल्मोड़ा की सुंदरता देखने लायक थी। अल्मोड़ा में बाबा भैरव को मानने वाले श्रध्दालुओं ने पूरे मन से और श्रद्धा के साथ भैरव बाबा की पूजा और अर्चना की। सांस्कृतिक नगरी अल्मोड़ा को नौ दुर्गा और अष्ट भैरव की नगरी भी कहा जाता है और भैरव बाबा अल्मोड़ा में 8 अलग-अलग मंदिरों के अंदर विराजमान हैं। अल्मोड़ा नगरी में लोगों को भैरव बाबा के ऊपर पर अटूट विश्वास है और यह विश्वास सदियों से कायम है। भैरव अष्टमी के दिन अष्ट भैरव की नगरी में श्रद्धालुओं ने भैरव बाबा के सभी मंदिरों में उनकी पूजा और अर्चना की। अष्ट भैरवी के पावन अवसर पर नगर के सभी मंदिरों में पूजा-पाठ का आयोजन किया गया और भंडारा भी हुआ। श्रद्धालुओं ने भैरव अष्टमी के दिन मंदिर में आकर भैरव बाबा की पूजा-अर्चना की और उनके दर्शन किए। सोमवार को पूरे दिन भैरव बाबा के मंदिरों में भक्तों की भीड़ उमड़ती नजर आई।

यह स्वीकार किया जाता है कि भगवान शिव के एक रूप भैरव बाबा खुद अल्मोड़ा शहर को सुनिश्चित करते हैं। इस अवसर पर कि आप एक सख्त और प्रामाणिक दृष्टिकोण से इस पर एक गैंडर लेते हैं, अल्मोड़ा का स्थान, एक सामाजिक शहर के बारे में सोचा गया, महत्वपूर्ण है और ऐसे कई अभयारण्य हैं जिनमें व्यक्तियों का अविश्वास विश्वास है। अल्मोड़ा शहर के अंदर दुर्गा माता के 9 अभयारण्य हैं और भैरव बाबा के 8 अभयारण्य हैं जिन्हें विभिन्न नामों से जाना जाता है और विभिन्न संरचनाओं में पूजा की जाती है। अल्मोड़ा में, भैरव बाबा बटुक भैरव, काल भैरव, खुटकुंआ भैरव, वन भैरव, लाल भैरव, शंकर भैरव, बाल भैरव और शै: भैरव के अंदर विराजमान हैं। मुझे आप के लिए कुछ पेचीदा प्रकट करने की अनुमति दें। अल्मोड़ा ग्रह पर मुख्य शहर है जहाँ अष्ट भैरव निवास करते हैं।

भैरव अष्टमी के शुभ दिन भैरव बाबा के सभी मंदिरों में श्रद्धालु पूजा पाठ करने पहुंचे और सभी मंदिरों में भंडारे का आयोजन भी किया गया। मार्गशीर्ष कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को हर वर्ष काल भैरव अष्टमी मनाई जाती है।यह स्वीकार किया जाता है कि इस दिन, भगवान शिव की विशाल संरचना काल भैरव हुई थी। जैसा कि दृढ़ विश्वास से संकेत मिलता है, माउंट काशी के सर्वोच्च बिंदु पर स्थित इस शहर में एक संभावित तत्व है जो इसे दिव्यवर्गों से भरा हुआ है। यह शहर अष्ट भैरव और नव दुर्गा अभयारण्यों से घिरा हुआ है, जो इसके लायक हैं। यह स्वीकार किया गया है कि अष्ट भैरव और नौ दुर्गा ने इस शहर की रक्षा की काफी लंबे समय तक की है। ये भयानक शक्तियां शहर को दुर्गुणों से सुरक्षित निकाल लेती हैं। अष्ट भैरव और नौ दुर्गा शहर का कवच बन कर नगर वासियों की सुरक्षा करते हैं। पूरी दुनिया में से केवल अल्मोड़ा में भैरव बाबा निवास करते हैं और यही कारण है कि भैरव बाबा के ऊपर अल्मोड़ा के लोगों का अटूट विश्वास है जो कि वर्षों से चला आ रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.