देहरादून के आई एम ए में दो अंडर पास बनने की मंजूरी : प्रोजेक्ट रुका हुआ था 40 सालों से

खबरे शहर सीमा

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सोमवार को IMA देहरादून में बनने वाले दो अंडरपास की वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए आधारशिला रखी. 1978 से लंबित परियोजना राष्ट्रीय राजमार्ग-72 से अकादमी के तीन परिसरों को जोड़ेगी, जिसे चकराता रोड के रूप में भी जाना जाता है.


रक्षा मंत्री ने कहा कि परेड के दौरान आईएमए में सुरक्षा की दृष्टि से राज्य सरकार और सेना को भी चिंता रहती थी. यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि परियोजना को लॉन्च होने में 40 साल से अधिक का समय लगा. इन अंडरपास के बनने से परेड के दौरान लोगों को आवाजाही की जो दिक्कतें होती थी, उनका समाधान होगा.

45 करोड़ रुपये की अनुमानित लागत की इस परियोजना को पूरा होने में लगभग दो साल का समय लगेगा. यह शिलान्यास आईएमए में मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की उपस्थिति में किया गया. इस मौके पर सीडीएस बिपिन रावत भी मौजूद रहे.

लोगों को भी मिलेगी सहूलियत

इससे न सिर्फ देहरादून बल्कि हिमाचल, हरियाणा, चंडीगढ़, उप्र और पंजाब के लिए आने-जाने वाले लोगों को भी सहूलियत मिलेगी। रक्षा मंत्री ने कहा कि सैन्य अकादमी के तीनों परिसरों को जोड़ने के लिए दो अंडरपास निर्मित किए जाएंगे। इनमें एक अंडर पास अकादमी के उत्तरी और दक्षिण परिसर के बीच चकराता रोड पर बनेगा, जबकि दूसरा अंडरपास दक्षिणी और मध्य परिसर के बीच रांगड़वाला मार्ग पर बनेगा।

नई रक्षा खरीद नीति के तहत खर्च होंगे 2290 करोड़ रुपये
केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सोमवार को रक्षा अधिग्रहण प्रक्रिया 2020 (DAP-2020) के प्रावधानों के लिए बैठक बुलाई. इस बैठक में सीडीएस विपिन रावत और तीनों सेनाओं के प्रमुख मौजूद रहे. बैठक में राजनाथ सिंह ने DAP-2020 के प्रावधानों से अवगत कराया. नई रक्षा खरीद नीति के तहत आने वाले अगले 5 साल में तीनों सेनाएं 2290 करोड़ रुपये उपयोग करेंगी. सेना और वायुसेना के लिए 540 करोड़ की लागत से हाई-फ्रीक्‍वेंसी रेडियो सेट की खरीद को भी हरी झंडी मिल गई है.

सीएम ने जताया रक्षा मंत्री का आभार

प्रदेश के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह द्वारा आइएमए के उत्तरी, दक्षिण और मध्य परिसर के बीच दो अंडरपास की स्वीकृति दिए जाने पर आभार व्यक्त किया। सीएम ने कहा कि अकादमी के बीच से गुजर रहे राष्ट्रीय राजमार्ग पर जाम की समस्या के कारण पिछले लंबे समय से अंडरपास की आवश्यकता महसूस की जा रही थी। कहा कि केंद्र सरकार से इसके लिए अनुरोध भी किया गया था। इसी क्रम में रक्षा मंत्री द्वारा अकादमी के तीनों परिसरों को जोड़ने के लिए दो अंडरपास और इसके लिए 32.33 करोड़ रुपये की स्वीकृति की है। सीएम ने कहा कि अंडरपास बनने से न केवल देहरादून की जनता को लाभ होगा बल्कि अन्य राज्यों से आने जाने वाले लोगों को भी सुविधा होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.