एक्शन में IAS दीपक रावत, 5 Km पैदल चलकर जांचा……

खबरे राजनीती शहर

अनलॉक में पाबंदियों में मिली ढील के बाद बड़े प्रोजेक्ट्स का काम शुरू हो गया है। साल 2021 में हरिद्वार में महाकुंभ का आयोजन होना है। मेला प्रशासन महाकुंभ को भव्य रूप देने की तैयारी में जुटा है। कुंभ मेलाधिकारी दीपक रावत खुद निर्माण कार्यों पर नजर बनाए हुए हैं। यही नहीं जो अधिकारी निर्माण कार्यों को लेकर गंभीर नहीं हैं, उनकी क्लास भी ले रहे हैं। इसी कड़ी में मेलाधिकारी दीपक रावत तकरीबन 5 किलोमीटर पैदल चलकर गंगा किनारे हो रहे निर्माण कार्यों का निरीक्षण करने पहुंचे। इस दौरान निर्माण कार्य में अनियमितता मिलने पर उन्होंने सिंचाई विभाग के अधिकारियों को जमकर फटकार भी लगाई। आईएएस दीपक रावत की गिनती सूबे के तेज-तर्रार अधिकारियों में होती है। जनता के हित की बात हो या फिर भ्रष्टाचारियों को सबक सिखाना। आईएएस दीपक रावत ने खुद को हर मोर्चे पर सफल साबित किया है। यही वजह है कि शासन की तरफ से उन्हें कुंभ मेले जैसे महत्वपूर्ण आयोजन की जिम्मेदारी दी गई है

उनके पाठ्यक्रम के तहत, आजकल गंगा के किनारे के सभी घाटों में सुधार किया जा रहा है। इस दृश्य में, कुंभ मेला-अधिकारी दीपक रावत ने विकास कार्यों की समीक्षा की। इस दौरान उन्होंने अधिकारियों की लापरवाही के लिए निंदा की।

वास्तविकता में महाकुंभ को शुरू होने के लिए कुछ समय बचा है। ऐसी परिस्थिति में, चैनल निष्कर्ष के बाद कई कार्य किए जाने थे, जिनकी कटऑफ का समय एक निष्कर्ष पर पहुंच रहा है, फिर भी अभी तक कई कार्यों का निर्धारण किया जाना बाकी है। IAS दीपक रावत ने अपनी निराशा का संचार किया। उन्होंने कहा कि बंधक गंगा का समय एक निष्कर्ष पर पहुंच रहा है। दीपावली की रात से गंगा की कैद खत्म हो जाएगी। ऐसी परिस्थिति में, सभी कार्यों को निर्धारित समय पर पूरा किया जाना चाहिए। उन्होंने गंगा घाटों द्वारा तैयार किए गए सभी कार्यों को पूरा करने के लिए गंभीर दिशा-निर्देश दिए, क्योंकि महाकुंभ के दौरान उत्साही लोग किसी भी मुद्दे का सामना नहीं करते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.