गढ़वाल में हे जनता कोरोना से त्रस्त, लेकिन शादी समारोह में मस्त विधायक जी..न सोशल डिस्टेंसिंग और न मास्क

खबरे शहर

पूरा प्रदेश कोविड-19 की लहर में संक्रमित हो रहा है ऐसे में प्रदेश सरकार की ओर से सभी विधायकों और जनप्रतिनिधियों से आग्रह किया गया है कि वह अपने क्षेत्र में स्वास्थ्य व्यवस्थाओं को बेहतर बनाने का प्रयास करें। साथ ही कहा गया है कि लोगों की अधिक से अधिक मदद कर सकें। इसके साथ ही केबिनेट मंत्री हरक सिंह की ओर से बयान जारी किया गया है कि शादियों को कुछ समय के लिये स्थगित कर दिया जाय ताकि संक्रमण न फैले।सरकार के प्रवक्ता सुबोध उनियाल की ओर से भी बयान दिया गया है कि विवाह समारोह से संक्रमण और तेजी से फैल रहा है। लेकिन दूसरी ओर भाजपा के पौड़ी के विधायक मुकेश कोली इन दिनों पौड़ी पहुंचकर विवाह में शामिल होकर वापस देहरादून जा रहे हैं। साथ ही कोविड की जो गाइडलाइंस है उनका भी उल्लंघन करते हुए नजर आ रहे हैं। जिसके बाद एनएसयूआई की पौड़ी इकाई की ओर से उनको पद से बर्खास्त करने की मांग की जा रही है।


एनएसयूआई के पदाधिकारियों ने मुख्यमंत्री को ज्ञापन भेजकर पौड़ी विधायक को बर्खास्त करने की मांग की है, एनएसयूआई के प्रदेश सचिव मोहित सिंह ने बताया कि पौड़ी विधायक मुकेश कोली को पद से बर्खास्त कर देना चाहिए। कोरोना के इस दौर में पौड़ी विधायक मुकेश कोली को जनता के बीच होकर स्वास्थ्य व्यवस्थाओं को बेहतर बनाना चाहिए था लेकिन पौड़ी विधायक देहरादून में आराम फरमा रहे हैं और जब पौड़ी में कोई शादी भंडारों का आयोजन हो रहा है तो वह देहरादून से बिना कोविड जांच करवाएं सीधे शादी समारोह में सम्मिलित हो रहे हैं। साथ ही सोशल मीडिया में डाली फ़ोटो में साफ दिख रहा है कि वह ना ही मास्क का सही प्रयोग कर रहे है और ना ही सामाजिक दूरी का ध्यान रख रहे हैं। ऐसे में अन्य लोगों को भी संक्रमण फैलने का खतरा बढ़ रहा है। सवाल ये है कि आखिर कोरोना के इस दौर में अपनी जिम्मेदारियों को निभाने के बजाए कोरोना को बढ़ाने का काम क्यों?

Leave a Reply

Your email address will not be published.