8 साल से मैदान में नौकरी कर रहे पु’लि’स’क’र्मी अब जाएंगे पहाड़

खबरे शहर

उत्तराखंड में पुलिस व्यवस्था आमजन के साथ-साथ अब खुद के विभाग के लिए भी सख्त हो चली है। स्मार्ट पुलिस बनाने के लिए पुलिस व्यवस्था को खुद में भी बदलाव करने बेहद जरूरी हैं और वे बदलाव कर भी रहे हैं। मैदानी इलाकों में पुलिस की आरामदायक नौकरी करने वाले पुलिसकर्मियों के लिए एक बेहद बड़ी खबर सामने आ रही है। अब उनकी पहाड़ों पर ड्यूटी करने की बारी जल्द ही आने वाली है। अब मैदान में जो भी पुलिसकर्मी 8 सालों से नौकरी कर रहे हैं उनको जल्द ही पहाड़ पर तबादला मिल सकता है। डीजी कानून व्यवस्था ने अब ऐसे पुलिसकर्मियों की सूची तैयार करने के निर्देश दिए हैं जो पिछले 8 सालों से मैदान में नौकरी कर रहे हैं। इन पुलिसकर्मियों को जल्द ही पहाड़ चढ़ना पड़ सकता है। डीजी अशोक कुमार ने कहा है कि अब कर्मचारियों के मैदान में रुकने की सेटिंग-गेटिंग पर भी ध्यान दिया जाएगा।

जो भी पुलिसकर्मी अपने ट्रांसफर पर रोक लगाते हैं, अब वे ऐसा नहीं कर पाएंगे। यह तो सबको पता ही होगा कि पहाड़ पर नौकरी करने के लिए कोई भी राजी नहीं होता है। उत्तराखंड के पहाड़ी क्षेत्रों के दुर्गम इलाकों में पुलिस कर्मी भी अन्य विभाग के कर्मचारियों की तरह नौकरी करने से कतराते हैं। इस तथ्य के बावजूद कि पुलिस को अब और फिर से स्थानांतरित किया जाता है, हालांकि एक तरह से या किसी अन्य द्वारा वे पोस्ट छोड़ने के तरीके का पता लगाते हैं। बहरहाल, विशेषज्ञों ने इसके लिए अनुरोध दिए हैं। वर्तमान में पुलिस संकाय कनेक्शन के माध्यम से आदर्श स्थान पर पोस्टिंग नहीं छोड़ सकता है। वर्तमान में अनुरोध दिए गए हैं कि किसी का भी कनेक्शन लंबे समय तक नहीं रहेगा। देर से, आईजी गढ़वाल रेंज ने इसके अलावा लंबे समय से चल रहे प्रतिनिधियों को अपने अद्वितीय संगठन क्षेत्र में भेजने का अनुरोध किया था।

कनेक्शन कुछ रैंडम टाइमफ्रेम के लिए हैं, फिर भी पुलिस कर्मचारी काफी लंबे समय के लिए अपने पदों को पूरा करते हैं और वे एक स्थान पर बने रहते हैं। हालांकि, वर्तमान में डीजी लॉ एंड ऑर्डर ने ऐसे पुलिस अधिकारियों के अभिजात वर्ग को स्थापित करने का अनुरोध किया है जो 8 साल से अपने क्षेत्र में दायित्व से गुजर चुके हैं ताकि वे पुलिस अब पहाड़ पर भी जिम्मेदारी निभा सकें और जिम्मेदारी निभा सकें। प्रदेशों तक पहुँचने के लिए पथरीली मुश्किल। खेतों में जिम्मेदारी निभाने के लिए एक अवसर के साथ पुलिस। डीजी अशोक कुमार का कहना है कि अब एक्सचेंज में सेटिंग-गेटिंग की अनुमति नहीं होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.