अब उत्तराखंड में बढ़ा बर्ड फ्लू का खतरा, नैनीताल चिड़ियाघर में जारी हुए अलर्ट

खबरे प्रकृति शहर

पड़ोसी राज्यों में बर्ड फ्लू घातक हो गया है और इसी को देखते हुए उत्तराखंड शासन ने भी राज्य में बर्ड फ्लू का अलर्ट जारी कर दिया है। मरे हुए पक्षियों में बर्ड फ्लू के वायरस पाए जाने की पुष्टि के बाद उत्तराखंड में भी हाई अलर्ट जारी कर दिया है और सब को सतर्क रहने के लिए भी बोल दिया है। हिमालय राज्यों में विशेष रुप से बर्ड फ्लू को लेकर अलर्ट जारी कर दिया है। पिछले दिनों राजस्थान और हिमाचल समेत कई राज्यों में मरे हुए पक्षी पाए गए थे जिनके अंदर बर्ड फ्लू की पुष्टि हुई थी। इसके बाद उत्तराखंड में भी बर्ड फ्लू से बचाव के लिए गाइडलाइन जारी कर दी है, जिसके अनुसार जिन जगहों पर पलायन के बाद सबसे अधिक पक्षी पहुंचते हैं वहां पर नजर रखनी होगी। अगर कोई भी पक्षी मरा हुआ पाया गया तो आधे घंटे में अधिकारियों को इस बात की सूचना देनी होगी। फिलहाल उत्तराखंड में बर्ड फ्लू का कोई भी मामला नहीं मिला है। मगर पड़ोसी राज्यों में मामले को देखते हुए उत्तराखंड में विशेष सतर्कता बरती जा रही है।

देश भर में चल रहे हैं बर्ड फ्लू के प्रकोप को लेकर नैनीताल चिड़ियाघर में भी हाई अलर्ट घोषित कर दिया है। नैनीताल चिड़ियाघर में वन्यजीवों की सुरक्षा के लिए उनके आहार में से अंडे और चिकन पर पूर्ण रूप से रोक लगा दी है और वन्यजीवों से दूरी बनाए रखे जाने के लिए भी इंतजाम किए जा रहे हैं। पर्यटकों को प्रवेश द्वार पर ही अच्छे से सैनिटाइज किया जा रहा है और इसी के साथ उनको वन्यजीवों से दूरी बनाए रखने के निर्देश भी दिए जा रहे हैं ।नैनीताल जू के वन क्षेत्राधिकारी अजय रावत का कहना है कि सेंट्रल जू अथॉरिटी की ओर से देश के सभी चिड़िया घरों के अंदर बर्ड फ्लू की आशंका को देखते हुए हाई अलर्ट जारी कर दिया है और इसे के साथ एहतियात बरतने के लिए टीम की ओर से एडवाइजरी भी जारी कर दी है। नैनीताल चिड़ियाघर में अंडों और चिकन पर पूरी तरीके से प्रतिबंध लगा दिया गया है। बंगाल टाइगर समेत अन्य मांसाहारी जीवो के लिए भी चिकन पर प्रतिबंध लगा दिया गया है।

एक बीमा के रूप में, चिड़ियाघर में जाने वाले सभी वेकैंसर इसी तरह पास में अदम्य जीवन की सराहना करते हुए एक विशिष्ट दूरी बनाने के लिए संपर्क किए जा रहे हैं और उन्हें अच्छी तरह से शुद्ध किया जा रहा है। प्राणी को क्षेत्र में आने से पहले यात्रियों को ध्यान में रखने के लिए, संज्ञानात्मक संदेश बैनर में लिखे गए हैं और चिड़ियाघर में कर्मचारियों के अतिरिक्त दायित्व को मजबूर किया गया है। यह भागती हुई इन्फ्लुएंजा धीरे-धीरे पूरे भारत में फैल रही है, जो तनावपूर्ण है। इस वजह से, प्राणियों के बीमा के लिए उत्तराखंड में उचित और आवश्यक प्रगति की जा रही है। देर से दो कव्वे को देहरादून के अंदर एसएसपी कार्यालय के करीब मृत पाया गया। पंख वाले जानवरों के इन्फ्लूएंजा की संभावना को ध्यान में रखते हुए, परीक्षण के लिए कार्यों के परीक्षण भेजे गए हैं, इस तथ्य के बावजूद कि रिपोर्ट अभी तक नहीं की गई है और पंख वाले जीवों की मृत्यु का कारण विशेष रूप से रिपोर्ट प्राप्त होने के बाद स्पष्ट होगा। इसके साथ ही, सबसे खतरनाक अमेरिका के नगर और नैनीताल में इस आधार पर है कि इन दोनों क्षेत्रों के रिपॉजिटरी में कई महान क्षणिकाएं हैं। ऐसी परिस्थिति में, पंख वाले प्राणी इन्फ्लूएंजा के भड़कने का खतरा मौलिक रूप से बढ़ जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.