गढ़वाल में 4 विकासखंडों में 80 शिक्षक कोरोना पॉजिटिव…………………

खबरे शहर

2 नवंबर को कोरोना समय सीमा में स्कूल खोले गए। वर्गों को समझने में मदद करने के लिए शुरू किया गया था, और अभी तक भयानक खबर कोरोना के बारे में मिल गई थी। क्राउन पॉजिटिव अंडरस्टैंडिंग पहले दिन रानीखेत के स्कूल में पहुंचा। बाद में, श्रीनगर में तीन सरकारी स्कूलों के प्रशिक्षकों को मुकुट सकारात्मक होने का पता चला था और अब पौड़ी क्षेत्र के 70 से 80 शिक्षकों और शिक्षकों के मुकुट को दूषित होने के लिए जिम्मेदार ठहराया गया है। ऐसे अनगिनत प्रशिक्षकों को मुकुट दूषित मिले और स्वास्थ्य और शिक्षा विभाग को मिलाया गया। पौड़ी के कई स्कूल बंद रहे। नसबंदी के निर्देशन के लिए दिशानिर्देश यहाँ दिए गए हैं। क्षेत्र के चार सुधार वर्गों में बच्चों की सुरक्षा में वृद्धि की गई है। इसी तरह उन वर्गों के बारे में सोचें जिनमें स्कूलों ने कोरोना सकारात्मक शिक्षकों की खोज की है। ये चौक हैं पौड़ी, कोट, खिरसु और पाबौ।

इन विकासखंडों को लेकर मुख्य शिक्षा अधिकारी पौड़ी गढ़वाल ने खंड शिक्षा अधिकारियों को पत्र भेजा है। जिसमें स्कूलों को बंद करने के निर्देश दिए गए। बताया जा रहा है कि स्कूलों में पढ़ाने वाले 70 से 80 शिक्षकों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है, जिसके चलते स्कूलों को बंद करने का निर्णय लेना पड़ा। छात्र-छात्राओं की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए स्कूलों को बंद करने का फैसला लिया गया है। चारों विकासखंडों के सभी सरकारी स्कूल अगले आदेश तक के लिए बंद कर दिए गए हैं। स्कूल 5 दिनों के लिए बंद किए गए हैं। यहां प्रशासन के निर्देश पर

सैनेटाइजेशन कराया जाएगा। आपको बता दें कि पौड़ी में सबसे पहले श्रीनगर के सरकारी स्कूलों में पढ़ाने वाले 3 शिक्षक कोरोना पॉजिटिव मिले थे। ये तीनों खिर्सू विकासखंड के अंतर्गत आने वाले स्कूलों में पढ़ाते थे। स्कूल खुलने से पहले 28 अक्टूबर को इनके सैंपल जांच के लिए भेजे गए थे। रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई। जिसके बाद राजकीय उच्चतर माध्यमिक स्कूल श्रीकोट गंगानाली, राजकीय इंटर कॉलेज स्वीत और राजकीय इंटर कॉलेज देवलगढ़ को तुरंत बंद करने के आदेश जारी कर दिए गए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.