13 साल की रिद्धिमा को बधाई..

खबरे शहर

प्रकृति है तो मनुष्य है। प्रकृति के बिना मनुष्य के अस्तित्व की कल्पना करना भी नामुमकिन है। धरती की संरचना में प्रकृति का एक बहुत ही बड़ा अहम योगदान है और प्रकृति वह चीज है जिसने हम सभी को जीवित रखा हुआ है। कहा जाता है कि हम प्रकृति के अधीन हैं।मगर मनुष्यों ने सालों से प्रकृति को अपना गुलाम बना कर रखा हुआ है। मनुष्य अपनी सुविधाअनुसार प्रकृति का हनन कर रहा है, उसका शोषण कर रहा है। पर्यावरण का संरक्षण इस समय एक ऐसा विषय है जिसके बारे में हम सभी को गंभीरता से सोचना चाहिए। और ऐसा हो भी रहा है। प्रकृति के लगातार हो रहे हनन और मानवीय गतिविधियों से हमारे पर्यावरण को जो चोट पहुंच रही है उसके लिए युवा वर्ग अपनी आवाज बुलंद कर रहा है और एक स्वर में प्रकृति के संरक्षण की बात कर रहा है। पर्यावरण संरक्षण जैसे गंभीर विषय को समझते हुए छोटे बच्चे लगातार आगे बढ़ रहे हैं। प्रकृति को बचाने हेतु वे लगातार काम कर रहे हैं। इसी कड़ी में अपना नाम जोड़ा है उत्तराखंड के हरिद्वार की महज 13 वर्ष की रिद्धिमा पांडे ने। मात्र 13 वर्ष की छोटी सी उम्र में रिद्धिमा पांडे दुनिया की 100 प्रेरक और प्रभावशाली महिलाओं की सूची में शामिल हो गई हैं। बीबीसी हर साल दुनिया की 100 ऐसी महिलाओं की लिस्ट निकालती है और उनको सम्मानित करती है जिन्होंने विभिन्न क्षेत्रों में शानदार काम किया है। एक न्यूज रिपोर्ट के मुताबिक बीबीसी द्वारा जारी की गई लिस्ट में हरिद्वार की नन्ही बेटी ने विश्व की टॉप 100 प्रेरक और प्रभावशाली महिलाओं के बीच जगह बना ली है। पूरे देश में कुल 3 ही भारतीय महिलाओं को इस लिस्ट में शुमार किया गया है और यह देवभूमि के लिए गर्व की बात है कि ऋद्धिमा पांडे उन तीनों महिलाओं में से एक है और सबसे कम उम्र की है।

इस तथ्य के बावजूद कि रिद्धिमा पांडे की उम्र 13 वर्ष है, वह अपने काम के प्रति इतनी उत्सुक हैं कि सबसे बड़े भी कम ही आती हैं। रिद्धिमा एक प्राकृतिक असंतुष्ट है और वह इसके अतिरिक्त पारिस्थितिक आश्वासन जैसे महत्वपूर्ण विषय के बारे में विचारशीलता फैलाने का प्रयास करती है। केवल 9 के समय, रिद्धिमा ने पर्यावरण परिवर्तन और प्राकृतिक बीमा पर प्रगति नहीं करने के लिए केंद्र सरकार के खिलाफ AGT में मुकदमा दायर किया। हो सकता है कि आप केवल 13 साल की उम्र में रिद्धिमा पांडे की उपलब्धियों को सुनकर चौंक जाएंगे। हरिद्वार की रिद्धिमा, जो एक पारिस्थितिक चरमपंथी हैं, भारत में उन 3 महिलाओं में से एक हैं

जिनका नाम बीबीसी द्वारा दिए गए शीर्ष 100 प्रभावशाली और प्रभावशाली महिलाओं के ठहरने में है। इसके अलावा, रिद्धिमा पांडे तीन महिलाओं में सबसे अधिक युवा हैं, जिसमें देवभूमि के लिए गर्व शामिल है। केवल 11 के समय में, रिद्धिमा पांडे क्विट में कुछ समय के लिए संयुक्त राष्ट्र (यूएन) में जाने वाली पहली युवा महिला थीं और पारिस्थितिक सुरक्षा पर एक ग्राउंड-ब्रेकिंग प्रवचन दिया। देवभूमि की यह छोटी बच्ची लगातार वुडलैंड्स की कटाई, पर्यावरण परिवर्तन के प्रति अपनी आवाज उठा रही है और अब उसे जलवायु के संरक्षण और वैश्विक स्तर पर भी विचारशीलता का प्रसार करने के लिए कृतज्ञता मिल रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.