अगले 2 दिन पड़ेगी उत्तराखंड में हाथ कंपाने वाली ठंड..

पर्यटन प्रकृति मौसम शहर

कड़ाके की ठंड के लिए तैयार हो जाइए। प्रदेश में कल से मौसम फिर करवट बदलेगा। हिमालयी क्षेत्र में पश्चिमी विक्षोभ एक बार फिर सक्रिय हो गया है। जिससे मौसम का मिजाज बदलने की संभावना है। मौसम विज्ञानियों के अनुसार आज आमतौर पर मौसम शुष्क रहेगा, लेकिन 11 और 12 दिसंबर को ठंड एक बार फिर मुश्किलें बढ़ाएगी। पहाड़ में मौसम खराब होने वाला है। इस बार उच्च हिमालयी क्षेत्रों के साथ-साथ 2500 से तीन हजार मीटर तक ऊंचाई वाले इलाकों में भी हिमपात की संभावना है। प्रदेश में इन दिनों भले ही धूप खिली है, लेकिन ठिठुरन का एहसास होने लगा है। ठंडी हवाएं बेचैन करने लगी हैं।

दिन में धूप खिलने की वजह से राहत है, लेकिन सुबह और शाम कड़ाके की ठंड पड़ने लगी है। आने वाले कुछ दिन और मुश्किलभरे रहेंगे। मौसम विज्ञान केंद्र के अनुसार प्रदेश में मौसम की दूसरी बर्फबारी बहुत जल्द हो सकती है। 10 दिसंबर को राहत रहेगी, लेकिन 11 दिसंबर से मौसम का मिजाज बिगड़ जाएगा। इस दौरान चार जिलों में बारिश और बर्फबारी की संभावना बनी हुई है। इन जिलों के बारे में भी जान लें। ये जिले हैं उत्तरकाशी, चमोली, रुद्रप्रयाग और देहरादून। यहां कल हल्की बारिश और हिमपात होने की संभावना है। अन्य जगहों पर मौसम आमतौर पर शुष्क रहेगा।

3,000 मीटर से अधिक की वृद्धि के साथ धब्बों में बर्फबारी सामान्य है। 12 दिसंबर को, 5 स्थानीय लोगों को मंदी और बर्फबारी होने पर भरोसा किया जाता है। ये क्षेत्र हैं उत्तरकाशी, रुद्रप्रयाग, चमोली, बागेश्वर और पिथौरागढ़। इन स्थानीय लोगों को सतर्क रहना चाहिए। यहां ऊंचे स्थानों पर बर्फबारी हो सकती है। कम वर्षा सामान्य है। अलग-अलग जगहों पर भी हल्की बूंदाबांदी हो सकती है। जिससे तापमान में तेज गिरावट आएगी। वायरस बढ़ेगा। इसी तरह 12 दिसंबर को गढ़वाल क्षेत्र में कुछ स्थानों पर ओलावृष्टि की संभावना है। ईश्वरीय बिजली भी इसी तरह गिर सकती है। 13 दिसंबर को हरिद्वार और उधम सिंह नगर के खेतों में घनी धुंध रहेगी। आजकल, वायरस का विस्तार हो रहा है, इसलिए ऐसे मौसम में अपनी भलाई के साथ व्यवहार करें। यंगस्टर्स और पुराने लोगों को उपेक्षित घर छोड़ने की कोशिश नहीं करनी चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.