उत्तराखंड में आई खुशखबरी: धीरे-धीरे पहाड़ में तोड़ रहा है कोरोना वायरस अपना दम: रुद्रप्रयाग जिला हुआ कोरोना मुक्त

खबरे शहर

देश भर में जहाँ कोरोना अपना विक्राल रूप ले चुका हिअ वही उत्तराखंड में कोरोना संक्रमण का ग्राफ लगातार बढ़ता जा रहा था। रुद्रप्रयाग: जनपद पूरी तरह कोरोना मुक्त हो गया है। मई 22 को पहला मामला आया था, इसके बाद यह संख्या लगातार बढ़ती गई, जो 66 तक पहुंच गई। सोमवार को पांच कोरोना संक्रमित मरीज ठीक होकर उन्हे अस्तपाल से छुट्टी दे दी गई। अब कोई भी मरीज कोरोना संक्रमित जिले में नहीं है।

सोमवार को कोटेश्वर अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कोरोना पॉजिटिव के पांच मरीज स्वस्थ होने पर होम क्वारंटाइन के लिए मुक्त किया गया। कोटेश्वर अस्पताल में डिस्चार्ज हुए सभी मरीजों को विधायक रुद्रप्रयाग ने पुष्प गुच्छ भेंट की व स्वास्थ्य विभाग की टीम ने तालियां बजाकर रवाना किया। इस अवसर पर विधायक भरत सिंह चौधरी ने कहा कि जनपद को कोरोना मुक्त करने में सभी चिकित्सकों के साथ ही सभी ने पूर्ण मनोयोग से कार्य किया है।

जनपद हुआ कोरोना मुक्त

मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. बीपी शुक्ला ने बताया कि सोमवार को आइसोलेशन वार्ड में रखे गए पांच व्यक्तियों को डिस्चार्ज कर दिया गया। डिस्चार्ज किए गए व्यक्ति ऊखीमठ व अगस्त्यमुनि ब्लॉक के हैं। इनमें तीन पुरुष व दो बच्चियां शामिल हैं। सभी को आइसोलेशन वार्ड में रखा गया था। डॉ.शुक्ला ने बताया कि जनपद में अब तक कुल 66 व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं, जिनमें से 100 प्रतिशत अर्थात 66 लोगों को उपचार के उपरांत स्वस्थ होने पर होम क्वारंटाइन के लिए मुक्त किया है। आज इन पांच व्यक्तियों को उपचार के उपरांत रिकवर होने पर मुक्त किया है व वर्तमान में जनपद कोरोना मुक्त हो गया है। इस अवसर पर अपर मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. जितेंद्र नेगी, डॉ. राजीव गैरोला, डॉ. कपिल तिवारी सहित अन्य लोग उपस्थित थे।

रिकवरी रेट 80% पहुँचा

बुधवार को राज्य के विभिन्न अस्पतालों से कुल 976 मरीजों को इलाज के बाद डिस्चार्ज किया गया। इसके साथ ही कुल ठीक होने वाले मरीजों की संख्या 39035 हो गई है। जबकि 9111 मरीजों का अभी भी अस्पतालों में इलाज चल रहा है। राज्य में कोरोना मरीजों को देगुना होने में 42 दिन लग रहे हैं।
मरीजों के ठीक होने की दर 80 प्रतिशत के करीब पहुंच गई है। जबकि संक्रमण दर 7.14 प्रतिशत हो गई है। बुधवार को राज्यभर से कुल 9983 मरीजों के सैंपल जांच के लिए भेजे गए। 10 हजार की रिपोर्ट आई जबकि 12 हजार से अधिक सैंपलों की रिपोर्ट आना बाकी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.