उत्तराखंड का अमृत..जोड़ों के दर्द और टूटी हड्डियों का रामबाण इलाज ……………

जंगल प्रकृति शहर

उत्तराखंड राज्य प्राकृतिक एवं औषधीय जड़ी-बूटियों की खदान है। यहां प्रचुर मात्रा में जड़ी-बूटियों एवं वनस्पतियों का भंडार मिलता है। आज हम एक ऐसे ही बेजोड़ चीज के बारे में आपको बताने जा रहे हैं जो पूरी तरह से प्राकृतिक है और प्रकृति से प्राप्त उत्पादों से बनती है। हम बात कर रहे हैं नैनीताल जिले के बेतालघाट ब्लॉक के बजेड़ी गांव से सटे इलाकों की जहां पर बजेड़ी का गोला बेहद प्रचलित है

और यह टूटी हड्डी को जोड़ने और दर्द को दूर करने के लिए बेहद कारगर है और एक अचूक दवा है। कई सारे औषधीय गुणों को अपने अंदर समेटे पत्तियों और जड़ों को पीसकर तैयार किए जाने वाले इस गोले का लेप टूटी हड्डियों को जोड़ने के एक अचूक और रामबाण दवाई मानी जाती है। बता दें कि कई वर्षों पहले मवेशियों पर इस गोले का सफल प्रयोग किया गया था और उसके बाद ही यह बजेड़ी के बेजोड़ गोले से हड्डी जोड़ने की वानस्पतिक तरीका गांव वालों को विरासत में दिया गया। यह गोला कुल 17 वनस्पतियों के मिश्रण से तैयार कर बनाया जाता है। बेतालघाट के गांव बजेड़ी में रहने वाले लोग इस गोले को बनाने के लिए किन वनस्पतियों का उपयोग किया जाता है, इस बात का खुलासा वे नहीं करते हैं।

वे इस अनोखे और रामबाण गोले के अंदर पड़ने वाली वनस्पतियों की जानकारी को गुप्त रखते हैं। जिन ग्रामीणों को इस दवा को बनाने में महारथ हासिल होती है केवल उन्हीं ग्रामीणों को इस गोले के लिए वनस्पति चुनने का जिम्मा देते हैं ताकि वनस्पति भी बची रहे और आयुर्वेदिक गोले का लाभ लोगों को मिलता रहे। सदियों पूर्व युद्ध आदि में सैनिकों के घायल होने पर इसी वनस्पतिक मिश्रण से बने दवाइयों का इस्तेमाल होता आया है। यह बिना किसी प्लास्टर के हड्डियों को जोड़ने का काम करता है। नैनीताल के बेतालघाट के दूरवर्ती गांव के लोगों को इस गोले को बनाने में महारत हासिल है। तरह-तरह की वनस्पतियों की पत्तियों और जड़ों को पीसकर तैयार किए जाने वाले इस गोले से बड़े से बड़ा फ्रैक्चर को पहले जैसा बनाने में बस कुछ ही दिन लगते हैं। यह गोला टूटी हड्डियों को जोड़ने में रामबाण साबित होता है। यह औषधीय गोला व्यक्ति विशेष के छोटे स्थान पर सूजन को घटाने और हड्डी टूटने से होने वाले असहनीय दर्द को काफी हद तक कम करने में भी कामयाब है।

यह खोल 17 पत्तियों और जड़ों की एक राशि को पाउंड करके बनाया गया है जिसमें वुडलैंड्स के पुनर्स्थापनात्मक गुण हैं। काफी समय तक नाजुक होने के बाद, यह सर्कल शेड्यूल पर सूख जाता है और जब इसकी आवश्यकता होती है, तो शेल को तोड़ दिया जाता है और धीरे से पानी के साथ मिश्रित किया जाता है, और इसका गोंद बनाया जाता है। उसके बाद जहां एक मलबे की हड्डी होती है, इस सर्कल के गोंद को लागू किया जाता है और बाद में एक कपास सामग्री के साथ जोड़ा जाता है। शहरवासी गारंटी देते हैं कि इस सर्कल को लागू करने के 3 दिनों के बाद, हड्डियों के खिंचाव के साथ-साथ पीड़ा में एक भारी कमी आती है और चौथे दिन, धुंध की तरह एक आवरण खोला जाता है और गड़बड़ हुई हड्डी को जोड़ा जाता है। पहले तो कुछ लोगों ने इस चक्र का इस्तेमाल सहयोगियों के परामर्श पर करना शुरू किया। इसके प्रदर्शन के साथ, वर्तमान में इसकी रुचि का विस्तार हुआ है। वर्तमान में, उत्तराखंड के हल्द्वानी, रामनगर, पिथौरागढ़, रानीखेत, अल्मोड़ा सहित उधम सिंह नगर के स्थानों में, व्यक्तियों को एक बोझाड़ी गोला का उपयोग करके एक विशेषता मार्ग में कुछ दिनों में हड्डियों को जोड़ने के लिए एक रामबाण इलाज मिल रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.