गजब की बात देहरादून से कभी बाहर नहीं गई गाड़ियां लेकिन उनका दिल्ली-नोएडा में कटा चालान..

खबरे शहर

नियमों का उल्लंघन होने पर चालान कटे तो कोई बात नहीं, लेकिन अपने दून में तो इन दिनों गजब हो रहा है। यहां दो ऐसे मामले सामने आए हैं, जिनमें वाहन देहरादून से बाहर नहीं गया, लेकिन एक वाहन का दिल्ली में चालान कट गया तो दूसरे का नोएडा में ई-चालान हुआ। तब से दोनों गाड़ियों के मालिक परेशान हैं। समझ नहीं पा रहे कि ऐसा कैसे हो गया। ई-चालान संबंधी सूचना इन्हें एसएमएस और ईमेल के जरिए भेजी गई। चालान मिलने के बाद से दोनों वाहन स्वामियों की नींद उड़ गई है। उन्हें यही चिंता सता रही कि जब वह शहर से बाहर ही नहीं गए तो चालान कैसे हुआ। पहला केस एक एक्टिवा स्कूटर के चालान से जुड़ा है। ये स्कूटर भंडारीबाग में रहने वाली रोशनी देवी के नाम से दून के आरटीओ दफ्तर में रजिस्टर्ड है। इनके स्कूटर का जो नंबर है 22 मई 2020 को उसी नंबर की कार का चालान नोएडा में हो गया। ओवर स्पीड में हुए दो हजार रुपये के ई-चालान का ई-मेल रोशनी देवी के पास पहुंचा है। चालान में पूरी डिटेल रोशनी देवी की हैं, लेकिन फोटो कार का है। दूसरा केस एक ऑटो से जुड़ा है। इस ऑटो के मालिक सतीश कुमार हैं।

मानक के अनुसार, ऑटो शहर में 25 किमी की सीमा से आगे नहीं जा सकता है, हालांकि सतीश के वाहन का चालान दिल्ली में कुछ दिन पहले काटा गया था। सतीश के पोर्टेबल के आगे एक संदेश गया। जिसमें बताया गया कि एक वाहन की कीमत रु। दिल्ली में 1000 का चालान किया गया है। वर्तमान में चालान किया जाता है, फिर भी अतिरिक्त रूप से समझें कि परिणाम क्या होंगे। जब तक चालान का निपटान नहीं किया जाता है तब तक व्यवसायिक वाहन फिट नहीं होगा। इसी तरह मूल्यांकन नहीं रखा जाएगा। कॉपी आरसी नहीं बनाई जाएगी। वाहन बेचे नहीं जा सकते। विभिन्न शहरी क्षेत्रों में दून ट्रेनों के चालान काटे जाने के पीछे की व्याख्या ज्ञात नहीं है, हालांकि यह स्वीकार किया जाता है कि कुछ लोगों ने ले ली गई गाड़ियों पर नकली नंबर प्लेट लगाई हैं। ऐसे बिंदु पर जब दिशानिर्देश टूटने पर ऐसे सिद्धांतों का ई-चालान किया जाता है, तो चालान उनसे संपर्क करता है। जिनके नाम पर विशेष संख्या के वाहन को सूचीबद्ध किया गया है। वर्तमान में कथित ड्राइवर इस मुद्दे के लिए जवाब की तलाश में हैं, जबकि आरटीओ संदीप सैनी का कहना है कि कुछ विशेष मुद्दे हो सकते हैं। यह विशेष रूप से परीक्षा के बाद तय किया जा सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.