पहाड़ का इस युवक ने ..लगाया गांव में ही सोलर प्लांट,मिला कई लोगों को रोजगार..

खबरे प्रकृति शहर

आपदा को अवसर में कैसे बदलना है, ये कोई उत्तरकाशी के आमोद पंवार से सीखे। मार्च में जब पूरे देश में लॉकडाउन लगा तब पहाड़ का ये मेहनती युवा सौर ऊर्जा का प्लांट स्थापित करने में व्यस्त था। इस तरह कोरोना काल में जब सब के धंधे मंदे पड़े तो आमोद ने अपने लिए आय का एक नया जरिया स्थापित कर लिया। यही नहीं कोरोना के चलते जॉब गंवाकर जो लोग गांव वापस लौटे, उन्हें भी आमोद के सोलर प्लांट के जरिए रोजगार मिल गया। आमोद यहां 200 किलोवाट बिजली का उत्पादन करते हैं। साथ ही सब्जी उत्पादन, मुर्गी पालन, गाय पालन और मौन पालन भी शुरू कर चुके हैं। खुद मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत भी उनके स्वरोजगार के आधुनिक मॉडल के फैन हैं। सीएम ने भी आमोद के काम को जमकर सराहा। उत्तरकाशी जिला मुख्यालय से 45 किलोमीटर दूर एक जगह है चिन्यालीसौड़। आमोद पंवार यहीं के इंद्रा टिपरी गांव में रहते हैं। आमोद की 15 नाली जमीन बंजर पड़ी थी। वो इसका इस्तेमाल करना चाहते थे। तब उन्होंने यहां सोलर पॉवर प्लांट लगाने की ठानी। साल 2019 में उन्होंने सौर ऊर्जा योजना के लिए आवेदन किया। योजना को जमीन पर उतारने के लिए 80 लाख रुपये का लोन भी लिया। लॉकडाउन लगने से एक दिन पहले यानी 23 मार्च को आमोद पंवार का 200 किलोवाट का प्लांट ग्रिड से जुड़ा और प्रोडक्शन शुरू हो गया।

इस प्रकार, जब कस्बे के नौजवान तालाबंदी में अपने घरों को वापस जा रहे थे, तो आमोद कस्बे में रहते हुए सूर्य उन्मुख संयंत्र से स्वीकार्य नकदी ला रहा था। सूर्य आधारित संयंत्र स्थापित होने के बाद, उन्होंने इसके अलावा फलस्वरूप भूमि को विपुल बनाने के लिए चुना। यहां उन्होंने खेती करना शुरू किया। डेयरी पशुओं को पौधे, मुर्गी पालन और शांत खेती के करीब खड़ा किया गया। 30 सितंबर को, सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने अमोद पंवार को सूर्य उन्मुख ऊर्जा के स्वतंत्र काम के मॉडल को देखने के लिए दिखाया। उन्होंने आमोद के काम की जोरदार सराहना की। अमोद का कहना है कि अब तक संयंत्र से ढाई लाख यूनिट से अधिक बिजली पहुंचाई जा चुकी है। प्लांट हर साल तीन लाख यूनिट बिजली पैदा करेगा। यह बिजली आगामी 25 वर्षों के लिए यूपीसीएल द्वारा खरीदी जाएगी।

अभी तक, रुपये की गति से बिजली खरीदी जा रही है। 4.38 प्रति यूनिट। अमोद का कहना है कि सूरज से संचालित ऊर्जा पहाड़ों में काम के एक अविश्वसनीय कुएं में बदल सकती है। जो व्यक्ति भूमि से शर्मीले हैं वे 25 किलोवाट का सूर्य आधारित संयंत्र लगा सकते हैं। इसके अलावा, जानवरों की खेती, सब्जी निर्माण और मुर्गी पालन जैसे कई विकल्प हैं। वे किशोरों से एक अच्छा वेतन प्राप्त करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.