उत्तराखंड में अब बनेगी हिमालयी क्षेत्र की सबसे लंबी रेल सुरंग..

खबरे पर्यटन प्रकृति शहर

देश के इंफ्रास्ट्रक्चर को मजबूत करने में लगी केंद्र सरकार पहाड़ों पर रेल पहुंचाने की कवायद में जुटी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट में शामिल ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेललाइन परियोजना का काम तेजी से आगे बढ़ रहा है। पहाड़वासी सालों से उत्तराखंड के चार धामों के रेल सेवा से जुड़ने का इंतजार कर रहे हैं और ये इंतजार अगले कुछ सालों में खत्म होने वाला है। इसी कड़ी में ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेल लाइन में पहाड़ के नीचे से 20 किलोमीटर लंबी टनल बनाने की योजना है। इस टनल के निर्माण के लिए रेल विकास निगम ने एलएंडटी कंपनी के साथ 3338 करोड़ का अनुबंध किया है। ये टनल हिमालयी क्षेत्र में बनने वाली अब तक की सबसे लंबी टनल होगी। हिमालयी क्षेत्र में बनने वाली सुरंग को टनल बोरिंग मैथड (टीबीएम) और न्यू ऑस्ट्रियन टनल मैथड से बनाया जाएगा, जो कि हिमालयी क्षेत्रों में चैनाग 47 प्लस 360 से 63 प्लस 117 किलोमीटर तक बनेगी। टनल की खुदाई टीबीएम के माध्यम से होगी। यह हिमालयी भूभाग में तैनात होने वाली सबसे बड़ी टनल बोरिंग मशीन होगी। टनल की लंबाई 20.807 किलोमीटर होगी, जो हिमालय क्षेत्र में किसी भी परियोजना में अब तक की सर्वाधिक लंबाई है।

ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेल लाइन कठिन हिमालयी जिलों को पार करेगी। उद्यम में 14.577 किलोमीटर की अपलाइन और 13.123 किलोमीटर की डाउनलाइन ब्यूरों का विकास शामिल है, जो रेल लाइन के दोनों ओर लगभग 800 मीटर की दूरी पर है। ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेलमार्ग परियोजना के तहत चारों धामों को जोड़ने के लिए 125 किलोमीटर लंबी रेलमार्ग लाइन पर काम किया जाना है। 16 मचान, 17 मार्ग और 12 रेलमार्ग स्टेशनों को उपक्रम के तहत काम करने का प्रस्ताव है। जिसमें से 10 स्टेशन मचान के अंदर और मार्ग के अंदर होंगे। इन स्टेशनों का सिर्फ एक हिस्सा खुले मैदान में नजर आएगा। बस शिवपुरी और ब्यास स्टेशन ऐसे स्टेशन हैं, जिनमें से कुछ टुकड़े खुली भूमि पर दिखाई देंगे। अन्य रेलमार्ग स्टेशनों के अंदर या अधिक मचान पर काम किया जाएगा। रेल पाठ्यक्रम का 84.24 प्रतिशत (105.47 किमी) भूमिगत रहेगा। रेल लाइन स्टेशनों का एक बड़ा हिस्सा, न केवल रेलवे, इसी तरह से मार्ग के अंदर काम किया जाएगा या अधिक विस्तार होगा। उद्यम लगातार 2024-25 समाप्त होने पर केंद्रित है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.