टिहरी झील में हुआ बड़ा हा’द’सा: गाड़ी से बस एक युवती का श’व’ बरा’म’द हुआ बाकी लापता

खबरे शहर

राज्य के टिहरी गढ़वाल जिले से सड़’क हाद’से की दुख’द खबर आ रही है जहां देहरादून से वाया टिहरी होते हुए रूदप्रयाग के ऊखीमठ जा रही एक बोलेरो वाहन(Bolero) टिहरी झील(Tehri lake) में गिर गया। बताया जा रहा है कि हाद’से के वक्त वाहन में चार लोग सवार थे। पुलिस विभाग की टीम एसडीआरएफ के साथ मिलकर गुरुवार सुबह से ही घटनास्थल पर रेस्क्यू ऑपरेशन चला रही है, परन्तु खबर लिखे जाने तक केवल एक महिला का ही श’व बरा’मद हो पाया है।

वाहन में सवार अन्य तीन लोगों के साथ ही अभी तक वाहन का भी कोई पता नहीं चल पाया है। पुलिस लापता व्यक्तियों की खो’जबीन में जुटी है। उधर हाद’से की खबर से वाहन में सवार लोगों के परिजनों में कोह”’राम मचा हुआ है। बताया गया है कि दुर्घ’टना’ग्रस्त कार में सवार सभी लोग रूद्रप्रयाग जिले के ऊखीमठ के रहने वाले थे।

एक जगह पर पैराफिट टूटा मिला

जानकारी के अनुसार बीते मंगलवार रात को एक बोलेरो वाहन देहरादून से रूदप्रयाग के लिए निकला था। बताया गया है कि अभिषेक रावत, उनकी बहन दीक्षा, आशु सवार थे जबकि वाहन को अवतार सिंह चला रहा था, ये सभी लोग रूद्रप्रयाग जिले के ग्राम मौली ऊखीमठ जा रहे थे। लेकिन जब बुधवार शाम तक जब वाहन रूद्रप्रयाग नहीं पहुंचा तो वाहन में सवार यात्रियों के परिजनों को चिंता हुई। इसी बीच बुधवार शाम को टिहरी पुलिस को सूचना मिली कि टिहरी झील जीरो बेंड के पास एक पैराफिट टूटा है और मौके पर कुछ बैग भी देखें ग‌ए है। सूचना मिलने पर मौके पर पहुंची पुलिस ने काफी खोजबीन की परंतु ना तो कहीं वाहन नजर आया और नहीं वाहन में सवार लोग। गुरुवार तड़के पुलिस ने एसडीआरएफ की टीम के साथ मिलकर दुबारा रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू किया तो पुलिस को दीक्षा रावत पुत्री युद्धवीर सिंह रावत का शव बरामद हो गया है। अन्य लोगों की तलाश जारी है।

चालक को झपकी आने से हादसे की आशंका

देहरादून से 29 सितंबर की रात 10 बजे चले वाहन सवारों के मोबाइल की लोकेशन रात करीब दो बजे भागीरथीपुरम के पास बागी में मिली। रात होने के कारण वह डैम टॉप से नहीं जा पाए, जिससे वह जीरोब्रिज से जा रहे थे, लेकिन 30 सितंबर तड़के तीन बजे के आस-पास वाहन जीरो ब्रिज से पहले दुर्घटनाग्रस्त हो गया। हालांकि बीपुरम-जीरोब्रिज रोड की स्थिति ठीक है। ऐसे में वाहन दुर्घटना का कारण तेज रफ्तार और चालक को नींद की झपकी आने के कयास लगाए जा रहे हैं।
रात को वाहनों की आवाजाही प्रतिबंधित है, लेकिन कई बार लोग इमरजेंसी होने और जरूरी कार्य से जाने की बात कहकर बैरियर से छोड़ने का अनुरोध करते हैं। इस स्थिति में वाहन चालक को हिदायत देकर छोड़ देते हैं।
– डा. योगेंद्र सिंह रावत, एसएसपी टिहरी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.