उत्तराखंड में ऑनलाइन.. …युवक को 10 हजार रुपए का पड़ा एक पिज़्ज़ा

खबरे शहर

ऑनलाइन ग’ल’त’ बयानी के मामले राज्य में बहुत तेजी से बढ़ रहे हैं। इस घ’ट”ना में कि कोई आपके घर के भीतर या घर डेटा के किसी भी प्रकार की सूक्ष्मता का अनुरोध करता है, उसे किसी को भी पेश न करें। राज्य में ऑनलाइन गुं”डे पैक गतिशील रहे हैं और उत्तराखंड में इस तरह की ग”ल”त बयानी के कई उदाहरण सामने आ रहे हैं। व्यक्तियों को बैंकों द्वारा, अभी भी और अभी भी, दिन के अंत में व्यक्तियों को अपने नकदी को खोने का विचार किया जा रहा है। थोड़े से स्पष्टवादिता के साथ, व्यक्तियों की अच्छी तरह से योग्य नकदी उनके बैंक से जल्दी से गायब हो रही है। नैनीताल के रामनगर से ऑनलाइन गलत बयानी का एक नया उदाहरण सामने आया है, जहां एक युवा ने केवल 60 मीटर की दूरी पर पिज्जा का अनुरोध किया, गुंडों ने युवा साथी से 5 रुपये आगे का अनुरोध किया और 10,000 रुपये उसके रिकॉर्ड से हटा दिए गए। जिसके बाद जवान तेजी से कोतवाली पहुंचे, इसी तरह पुलिस ने हाथ खड़े कर दिए।

पी”ड़ि”त विनय वर्मा मोहल्ला टेड़ा रोड के निवासी हैं और ऑ’न’लाइन ठगों ने शातिर तरीके से उनको अपने जाल में फं’सा’या’। हाल ही में उन्होंने अपने घर से 60 मीटर की दूरी पर पिज़्ज़ा मंगवाया था। पिज़्ज़ा मंगवाने के लिए गूगल में पास की पिज़्ज़ा की दुकान का फोन नंबर खोजा। डिलीवरी करने के लिए उन्होंने एक नंबर पर फोन किया और फोन उठाने वाले ने पिज़्ज़ा की कीमत 90 रुपये बताई। उन्होंने कहा कि ऑर्डर करते ही पिज़्ज़ा उनके घर आ जाएगा मगर उससे पहले उनको उनके खाते में 5 रुपए भेजने होंगे। जिसके बाद पीड़ित भी उनकी बातों में आ गया और उन्होंने अपने एटीएम कार्ड की डिटेल दे दी। उसके बाद जिसका डर था वही हुआ। ऑनलाइन ठगों ने पीड़ित के बैंक अकाउंट से 10 हजार की बड़ी रकम निकाल ली। व्यक्ति के पास पिज़्जा तो नहीं आया मगर उसके खाते से 10 हजार रुपए निकालने का मैसेज पहुंच गया।

ठगी का पता लगते ही युवक ने सबसे पहले बैंक मैनेजर को इस बात की जानकारी थी और उसके बाद वह तुरंत ही आनन-फानन में कोतवाली पहुंचा जहां उसने कोतवाली में जानकारी देते हुए एसएसआई जयपाल चौहान को पूरी घटना से अवगत कराया। हालांकि ऐसे मामलों में पैसे वापस मिलना बहुत मुश्किल है, मगर फिर भी पीड़ित ने पुलिस से पैसे वापस ट्रांसफर करने के लिए कार्यवाही की गुहार लगाई मगर पुलिस ने भी अपने हाथ खड़े कर दिए और कहा कि वह इस मामले में उनकी कोई मदद नहीं कर सकते। पुलिस ने भविष्य में उनको सावधानी बरतने की सलाह देकर घर भेज दिया है। बता दें कि प्रदेश में ऑनलाइन ठगी के केस काफी बढ़ रहे हैं। मासूम लोग ऐसे बदमाशों की बातों में आकर अपने बैंक अकाउंट और अपने एटीएम के डिटेल्स उनको दे रहे हैं जिससे उन ठगों के लिए काम और आसान हो जा रहा है। ऐसे में हमारी आप से अपील है कि अगर आपको भी कोई ऐसा कॉल आता है या मैसेज आता है जहां पर आपको अपने बैंक अकाउंट के डीटेल देने के लिए बोला जाता है तो कृपया करके ऐसे मैसेज को इग्नोर करें और ऐसे ठगों के गिरोह से बच कर रहें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.