एक ऐसा आईएएस अधिकारी ,जो 21 किलो सब्जी अपनी पीठ पर लाते थे दुकान

समाचार समाज

ज्यादातर बड़े बड़े अधिकारी अपनी आलीशान गाड़ियों में ही घूमते हैं और ऐसो आराम की जिंदगी जीते हैं लेकिन आज हम आपको एक ऐसे अधिकारी की कहानी जो सारी सुख सुविधा होने के बाद भी। धरताल से जुड़े हुआ हे। और एक आम वयक्ति की भाती अपना जीवन वयतीत कर रहे है। लेकिन आज हम आपको एक ऐसे अधिकारी के बारे में बताने जा रहे हैं जो अपने देसी अंदाज के लिए सोशल मीडिया में छाए हुए हैं.

वो एक IAS अफसर हैं लेकिन जिस अंदाज में वो सोशल मीडिया में दिखाई दे रहे हैं, उसे देखकर आपको यही लगेगा कि कोई आम आदमी ही है. सोशल मीडिया में उनकी पीठ पर टोकरी लेकर मार्केट में खरीदारी करने वाली तस्वीर बहुत पसंद की जा रही है. इस IAS अधिकारी का नाम राम सिंह है. उनकी दिनचर्या इनती साधारण है कि कोई भी शख्स धोखा खा सकता है कि ये आईएस अधिकारी हैं. आइए जानते हैं उनकी जीवनशैली के बारे में

कौन है IAS अधिकारी राम सिंह

राम सिंह मेघालय के एक IAS अधिकारी हैं. वो (ram singh ias) मेघालय के वेस्ट गैरो हिल्स, टुरा में डिप्टी कमिश्नर के पद पर तैनात हैं। इनकी उम्र 43 साल है. वो 2008 बैच के IAS अधिकारी है। इनके परिवार में इनके भाई भी आईएएस अधिकारी हैं. इन दिनो वो अपने कामों को लेकर सोशल मीडिया पर छाए हुए है। वो अपने साधारण जीवनशैली की वजह से चर्चा का विषय बने हुए हैं. वो स्वयं के वाहनों का उपयोग कम ही करते हैं. वो मानते हैं प्राइवेट वाहनों का इस्तेमाल जरूरत पर ही करना चाहिए. इससे प्रदूषण कम होगा साथ ही हम फिट भी रहेंगे.

इसके अलावा वो एक साधारण सा झोला लेकर सब्जी लेकर जाते हैं. वो चाहते हैं कि प्लास्टिक का इस्तेमाल कम से कम हो. पूरे परिवार के साथ वो आम लोगों और मजदूरों के साथ वाहन में सफर करते दिख जाते हैं बच्चों के साथ टहलते हैं. इसके अलावा स्थानीय निर्मित बांस की टोकरी का उपयोग करते हैं. इस टोकरी का उपयोग मुख्य रूप से आदिवासी करते हैं. वो इससे जलाने वाली लकड़ी लेकर जाते हैं

बांस की टोकरी में लाते हैं सब्जियां

राम सिंह ने हाल ही में अपनी एक तस्वीर फेसबुक पर शेयर की है. उसके कारण वो (ias ram singh) काफी सुर्खियों में बने हुए है। इस तस्वीर में एक सामान्य आदमी की तरह वो स्थानीय बाजार से सब्जी खरीदते हुए दिख रहे हैं।

इसके लिए उन्होंने अपनी पीठ पर बांस की पारंपरिक टोकरी बंधी हुई है और वह पैदल खरीदारी कर रहे है। सब्जियों को खरीदने के लिए वह रोजाना 10 किलोमीटर पैदल अपने घर से ऑफिस तक का सफर करते है. इसके बीच में वह स्थानीय लोगो से सब्जियां और फल खरीदते है।

देसी ढंग से जीते हैं हाई-प्रोफाइल जिंदगी

राम सिंह पॉलीथिन का उपयोग करने से हमेशा बचते है, वह जब सब्जी लेने जाते है, तो किसी वाहन का भी उपयोग नहीं करते है। उन्होंने (ias ram singh lifestyle) तस्वीर के साथ लिखा है- “वीकेंड पर ऑर्गैनिक सब्जियों की 21 किलो की शॉपिंग, कोई प्लास्टिक नहीं, वाहन का प्रदूषण नहीं। इस तरह से वह जनता को भी सन्देश दे रहे है और काम से कम प्लास्टिक बेग का उपयोग करने की सलाह दे ते है। वह पैदल इसलिए चलते हैं कि फिट रहे और शरीर स्वस्थ रहे।

पैदल चलने के लिए लोगो को देते हैं प्रेरणा

राम सिंह का कहना है कि उन्होंने पैदल चलना इसलिए शुरू किया ताकि प्रदूषण कम से कम हो और ट्रैफिक की समस्या भी कम हो। राम सिंह फिट इंडिया के तहत देश के लोगो को प्रेरित करने का कार्य कर रहे है।

उनका कहना है- ‘प्रदूषण रोकने के लिए जब लोगों से वाहन का उपयोग कम करने की सलाह दी तो लोग ने उनसे कहा की हमे सब्जियों के साथ पैदल चलने में मुश्किल होती है, जिसके बाद वो स्वयं लोगो को जागरूक करने के लिए बांस की टोकरी ‘कोकचेंग’ साथ लेकर चलने लगे और अन्य लोगो को भी ऐसा करने की सलाह दे रहे है। उनका कहना है की मैं पिछले 6 महीने से ऐसा कर रहा हूं और मुझे अब बेहतर लग रहा है, क्योंकि पैदल चलने से मेरा स्वास्थ भी ठीक रहता है।

खेती में काम करते हुए तस्वीर हुई थी वायरल

राम सिंह हल चलाने वाली तस्वीरों को लेकर भी सोशल मीडिया में छा गए थे. कुछ दिनों पहले उनकी एक तस्वीर सोशल मीडिया में वायरल हुई थी. जिसमें वो हल चलाते हुए दिखाई दे रहे है। वो अपने खेतो में हल चलाकर खेती करते हुए भी नजर आते है।

इसके साथ ही स्वच्छ भारत अभियान के तहत शहर को स्वच्छ रखना, single use plastic का इस्तेमाल नहीं करना, बांस की टोकरी लेकर चलना जैसे कई तरह के कार्यो के लिए वह लोगो को प्रेरित करते है।  राम सिंह फिट इंडिया के लिए सोशल मीडिया पर फिटनेस (ias ram singh fit india ) वीडियो पोस्ट नहीं करते बल्कि वह स्वयं इस कार्य को करते है और कई किलोमीटर पैदल चलते हैं | ऐसे अफसर पर सभी को गर्व होना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.