पूज्य प्रियदर्शनी ने बार-बार असफलता मिलने के बाद भी नहीं मानी हार , आखिरकार बनी आईएस अफसर

समाचार समाज

जब भी कोई भी व्यक्ति अपने लक्ष्य को पाने के लिए मेहनत करता है तो उसे उसमें कई बार असफलता का सामना भी करना पड़ता है। लेकिन कुछ व्यक्ति असफलताओं से डर कर अपने रास्ते को छोड़ देते हैं लेकिन कुछ रखे ऐसे भी होते हैं जो डटकर असफलताओं का सामना करते हैं और उनसे लड़का सभी दिक्कतों का सामना करने के बावजूद भी अपने सपने तक पहुंच जाते हैं और अपनी मंजिल हासिल करके ही दम लेते हैं आज हम आपको ऐसे ही कहानी सुनाने वाले हैं जिससे आपको काफी मोटिवेशन मिलेगा।

पूज्य प्रियदर्शनी (IAS Pujya Priyadarshini) ने वर्ष 2018 में चौथी बार कोशिश करने पर इस एग्जाम में सफल हुई पहले तीन बार उन्होंने परीक्षा दी लेकिन कभी इंटरव्यू में तो कभी एग्जाम में, कहीं ना कहीं पर उन्हें असफल होना पड़ा। इसके बावजूद भी पूज्य प्रियदर्शनी ने हार नहीं मानी और निराश होने की बजाय, उन्होंने एक बार फिर प्रयास करने का निश्चय कर लिया था। एक बार तो वे इंटरव्यू तक भी पहुँच गई थी, लेकिन असफल हुई। पहले तो वे इस बात से दुखी हुई थीं, पर फिर उनके माता-पिता के सहयोग और मोटिवेशन से उन्हें फिर से कोशिश करने की प्रेरणा मिली और आखिरकार वे कामयाब रहीं।

पहले ग्रेजुएशन के साथ ही UPSC Exam दी थी

इन्होंने दिल्ली के श्रीराम कॉलेज ऑफ कॉमर्स से बी.कॉम की पढ़ाई की तथा कोलंबिया यूनिवर्सिटी न्यूयॉर्क से पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन में मास्टर्स किया। जब ये ग्रेजुएशन के आखिरी साल में थीं, उस समय वर्ष 2013 में उन्होंने UPSC Exam पहली बार दिया था। परन्तु ग्रेजुएशन और UPSC की तैयारी साथ-साथ करने की वज़ह से वे UPSC में सेलेक्ट नहीं हो पाई थीं। फिर उन्होंने अपनी कॉलेज की पढ़ाई करने के लिए कुछ समय तक UPSC एग्जाम नहीं दिया।

बाद में उन्होंने वर्ष 2016 में फिर से UPSC की परीक्षा दी थी। जब इनकी पोस्ट ग्रेजुएशन पूरी हो गई, तब इन्होंने जॉब शुरू कर दी और एक प्रतिष्ठित कंपनी में लगभग ढाई वर्ष तक इन्होंने नौकरी की और साथ ही UPSC EXAM की तैयारी भी करती थीं।

इंटरव्यू तक पहुँच कर भी असफल हुईं

जब वर्ष 2016 में पूज्य प्रियदर्शनी (IAS Pujya Priyadarshini) परीक्षा दी तो सारे लेवल पार करते हुए वे इंटरव्यू तक भी पहुँच गई थी परंतु फिर भी इंटरव्यू में असफल रहने की वज़ह से पास नहीं हो पाईं। उनका सिलेक्शन रिजर्व लिस्ट ताकि हो पाया था। इंटरव्यू तक पहुँचना यानी कामयाबी से बस दो क़दम की दूरी पर उन्हें जो असफलता प्राप्त हुई उससे उन्हें बहुत दुख हुआ और उनका आत्मविश्वास डगमगा गया था।

आत्मविश्वास में कमी आने की वज़ह से उन्होंने जब दोबारा 2017 में प्रयास किया तब तो वे प्री परीक्षा में भी पास नहीं हो पाई थीं। लगातार तीसरी बार भी नाकामयाब होने के बाद उनका ख़ुद पर से पूरा विश्वास उठ गया था और उन्हें लगा कि वे इस परीक्षा में कभी पास नहीं हो सकेंगी, यहाँ तक की पूजा ने सिविल सेवा में जाने का विचार छोड़ देने का भी सोच लिया था।

माता पिता ने दिया साथ

पूज्य प्रियदर्शनी (IAS Pujya Priyadarshini) के मम्मी और पापा दोनों ही सिविल सेवा में हैं, इसलिए वे भी उन्हीं की तरह बचपन से ही सिविल सर्विसेज में जाना चाहती थीं। उन्होंने अपने माता पिता को देखा था कि किस तरह से वे लोगों के लिए कार्य करते हैं। जिससे छोटी उम्र से ही उनके मन में यही इच्छा जागी थी कि वह भी अपने माता पिता की तरह लोगों की सेवा करें और सिविल सर्विसेज के करियर में ही आगे बढ़े। उनके लिए सिविल सेवा के बारे में सोचना छोड़ देना बहुत मुश्किल हो रहा था।

फिर उनके माता-पिता ने जब उन्हें समझाया और फिर से परीक्षा देने के लिए प्रेरित किया तो एक बार फिर पूजा के मन में आत्मविश्वास जागा और उन्होंने सोचा कि परीक्षा से पहले उन्हें इस बात पर ध्यान देना है कि वे क्या गलती कर रही हैं और किस वज़ह से बार-बार असफल होती हैं। फिर उन्होंने पूर्व में जो गलतियाँ की थी उन्हें सुधारा और पूरी मेहनत से परीक्षा के फिर से तैयारी की। इस बार हमें सिर्फ़ पास ही नहीं हुई बल्कि AIR11 यानी ऑल इंडिया रैंक 11 प्राप्त करके टॉप भी किया। एक विशेष बात तो यह है कि उन्होंने अपनी जॉब करते हुए ही इस परीक्षा की तैयारी की, परीक्षा के लिए कभी नौकरी नहीं छोड़ी।

IAS Pujya Priyadarshini के सुझाव

पूज्य ने 3 बार असफल होकर सफलता का जो मुकाम हासिल किया उससे वह बहुत कुछ सीखी हैं। वे UPSC की परीक्षा देने वाले अन्य प्रतियोगियों को भी सुझाव देती हुई कहती हैं कि अगर आप इस एग्जाम में सफल होना चाहते हैं तो आप में आत्मविश्वास होना अति आवश्यक है, भले ही आप कई बार नाकामयाब रहे लेकिन अपना हाथ में विश्वास कभी नहीं खोना।

उन्होंने कहा कि आपको रोजाना अख़बार पढ़ने की भी आदत डालनी चाहिए जिससे आप समसामयिक मुद्दों के बारे में अपडेट रहेंगे। जिसमें आपका इंटरेस्ट हो उसे ही ऑप्शनल चुनिए। आपको अपनी बुक्स भी कंफ्यूज हुए बिना सोच समझकर लेनी होगी। उसके साथ ही आप प्रैक्टिस के समय उत्तर लिख-लिख कर बार-बार प्रैक्टिस कीजिए तथा अपने उत्तर किसी जानकार व्यक्ति को चेक करने के लिए दीजिए जिससे आपको पता चलेगा कि आपने क्या गलतियाँ की हैं। आप अपनी मिस्टेक्स को सुधारें और अच्छी तरह से प्रैक्टिस कीजिए।

IAS Pujya Priyadarshini ने इसके अलावा एक और आवश्यक बात कही कि आपको संयम रखना होगा। यूपीएससी की परीक्षा (UPSC Exam) सरल नहीं होती है, लेकिन अगर दृढ़ निश्चय, कड़ी मेहनत और पूरी प्लानिंग के साथ कोशिश करें तो आपको सफलता ज़रूर मिलेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.