पेश की दुनिया के लिए मिसाल, सबसे बड़े प्रदेश के मुख्यमंत्री की बहन आज भी चाय बिस्कुट की दुकान चलाती हैं

समाचार समाज

आपने अपने जीवन में केवल मोह माया के त्याग की बातें केवल साधु संतों द्वारा ही सुनी होगी लेकिन आज भी दुनिया में कई ऐसे व्यक्ति मौजूद है। जो कि मोह माया का त्याग कर देते हैं बिना किसी लाभ और लालच के वैसे तो कहा जाता है कि वैरागी बंद मोह माया का त्याग करना दुनिया का सबसे कठिन कार्यों में से एक होता है ऐसी ही मिसाल पेश करी है आप सभी के सामने भारत देश के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जीने।गोरखनाथ पीठ के जैसे प्रख्यात मंदिर के महंत योगी आदित्यनाथ जी पाँच बार सांसद बन चुके है और अब मुख्यमंत्री मंत्री है। पर इस सब के बाद आज भी उनका परिवार पहले जैसी दशा में ही अपना जीवन यापन कर रहा है।

लोग विधायक होते ही अपने साथ-साथ अपने परिवार को भी मालामाल कर देते हैं, पर योगी आदित्यनाथ जी ने एक बार घर त्याग के संन्यास लिया तो पीछे मुड़कर नहीं देखा।

बहन आज भी बेचती है चाय और फूल, वीडियो देखे

योगी आदित्यनाथ जी की तीन बहनों में से उनकी सबसे छोटी बहन शशि आज भी ऋषिकेश से 30 किलोमीटर ऊपर वन में एक छोटी-सी झोपङी में चाय बनाने और बेचने का काम कर रहीं हैं। शशि नीलकंठ मंदिर से ऊपर पार्वती मंदिर के आस पास बिस्कुत, फूल माला आदि समान बेच कर अपने परिवार का पोषण कर रही हैं।

शशि की बाक़ी दो बहनें ठीक ठाक परिवार में हैं केवल शशि यह संघर्ष पूर्ण जीवन जीने पर मज़बूर हैं। शशि ने बातचीत के दौरान बताया कि 30 साल पहले जब योगी आदित्यनाथ जी का पूरा परिवार पंचूर में रहता था तो सभी त्यौहार साथ में मनाया जाता था।

पिता से लेकर देते थे राखी बंधवाई

योगी जी की बहन का कहना है, रक्षाबंधन के दिन वे अपने सभी चार भाइयों को राखी बाँधती थी। जब योगी जी से उपहार माँगती थी तो योगी आदित्यनाथ उर्फ अजय बिष्ट कहते थे अभी कमाता नहीं हूँ जब कमाऊँगा तब दूँगा और फिर पिता से लेकर कुछ पैसे देते थे जिसे वे पिता के जाने के बाद बहनों से दुबारा ले लेते थे।

बहन को है भाई को न देख पाना का है मलाल

अभी से 30 वर्ष पूर्व आदित्यनाथ जी की पहचान अजय बिष्ट के तौर पर थी, तभी यह अपना घर छोड़ कर आ गए। बहन शशि का कहना है तब से उन्होंने अपने भाई को देखा नहीं, न ही उनको राखी पाई हर साल उनको इस बात का उन्हें हमेशा मलाल रहता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.