हिंदुस्तान का एक जांबाज जवान, दोनों पैर गवा बैठे थे एक एक्सीडेंट में , फिर भी 6 महीने बाद पहुंचे ड्यूटी में

समाचार समाज

इंसान के जीवन में कभी कभी ऐसी घटनाएं घटित हो जाती हैं जिसके बाद उसका मनोबल बिल्कुल टूट जाता है लेकिन यह उस व्यक्ति पर निर्भर करता है। कि आज के बाद वह उस कठिन परिस्थिति कैसे बाहर निकलता है और किस तरीके से अपने आत्मविश्वास को वापस से बनाना पड़ता है। आज हम आपको ऐसी कहानी सुनाने वाले है जिससे सुनकर आपकी आखो में आशु आ जायगे।

ऐसे ही एक जांबाज जवान है मध्य प्रदेश के भिलाई के रहने वाले अभिषेक निर्मलकर (Abhishek Nirmalkar), जिन्होंने एक हादसे के दौरान अपने दोनों पैर गंवा दिए, परंतु हिम्मत नहीं गंवाई। पैर खोने के बाद भी उनका देशभक्ति का जज़्बा कम नहीं हुआ और वे फिर से अपने कर्तव्य को पूरा करने के लिए ड्यूटी पर आ गए। अभिषेक की धर्मपत्नी ने भी उनका बहुत साथ दिया।

ट्रेन हादसे में दोनों पैर कट गए

अभिषेक निर्मलकर (Abhishek Nirmalkar) हर रोज़ ड्यूटी के लिए भिलाई से रायपुर जाया करते थे। वे ATS में ड्यूटी देते थे। एक बार रात के समय वे दानापुर एक्सप्रेस से घर जाने के लिए निकले। उस समय वह ट्रेन के गेट पर खड़े हुए थे। फिर अचानक बोगी में धक्का मुक्की शुरू हो गई, जिससे वे नीचे गिर पड़े

इसके बाद जब उन्हें होश आया तो वह हॉस्पिटल में थे। उनका एक पैर तो था ही नहीं और दूसरा पैर काम नहीं कर रहा था। उन्हें शारीरिक और मानसिक अथाह पीड़ा व दर्द का अनुभव हो रहा था। तभी चिकित्सकों ने बताया कि उनका एक पैर कट चुका है और दूसरा पैर भी काटना पड़ेगा। फिर दूसरे दिन उनके दूसरे पैर का भी ऑपरेशन हुआ और उसे भी अलग कर दिया गया।

कृत्रिम पैर के सहारे खड़े हुए

एक रिपोर्ट के अनुसार, पहले तो इस हादसे के बाद अभिषेक को बहुत धक्का लगा और वे डिप्रेशन में जाने लगे थे, परंतु उनकी पत्नी और उनके बाक़ी घर वालों ने उनका बहुत साथ दिया और उन्हें हिम्मत बंधाई। इन मुश्किल घड़ियों में उनकी पत्नी ने उनकी जिम्मेदारी उठाई और उनके बुज़ुर्ग पिता ने भी बहुत सहयोग किया।

अभिषेक का 7 साल का एक बेटा और डेढ़ साल की एक बेटी है। उनके ATS के अधिकारियों ने सहारा दिया और कहा कि वह फिर से ड्यूटी पर जा सकते हैं। फिर अभिषेक में कृत्रिम पैरों पर खड़े होने के लिए बहुत कोशिश की और वह सफल रहे। 6 महीनों के बाद वे बहुत संघर्ष करके अपने पैरों पर खड़े हुए और फिर चलने का अभ्यास शुरू कर दिया। कई बार गिरते पड़ते लेकिन उन्होंने कोशिश नहीं छोड़ी और फिर बाद में तो वह अपने मित्रो के साथ मोटरसाइकिल पर बैठकर बाहर भी जाते थे।

अब रोज़ 35 किलोमीटर दूर ड्यूटी पर जाते हैं

अब उन्होंने 20 अक्टूबर से ड्यूटी ज्वाइन कर ली और रोजाना वे अपने मित्र की मोटरसाइकिल पर बैठकर 35 किलोमीटर तक सफ़र तय करके ड्यूटी पर जाते हैं। अब धीरे-धीरे वे इस हादसे को बुलाकर आगे बढ़ रहे हैं और मोपेड चलाने का भी अभ्यास कर रहे हैं। इन जांबाज जवान को इनकी हिम्मत और देशभक्ति के लिए सारा देश सलाम करता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.