Home / समाज / इंटरनेट से पढ़कर पास किया UPSC का एग्जाम पहले ही प्रयास में पास किया और बानी IPS इंटरनेट से पढ़कर पास किया UPSC का एग्जाम पहले ही प्रयास में पास किया और बानी IPS

इंटरनेट से पढ़कर पास किया UPSC का एग्जाम पहले ही प्रयास में पास किया और बानी IPS इंटरनेट से पढ़कर पास किया UPSC का एग्जाम पहले ही प्रयास में पास किया और बानी IPS

सब लोगो के अपने सपने होते है जो लोग IPS बनना चाहते है उनमे से कुछ लोगो के ही सपने पुरे हो पाते है कुछ लोग के सपने टूट जाते है , लेकिन फिर भी वो लोग प्रयास करते रहते है और आखिर कर सफल हो जाते है और कुछ युवा युवती पहले ही प्रयास में सफल होकर अपने माता पिता और अपने गांव का नाम रोशन करते है आज हम ऐसे ही एक IPS के बारे में बताने जा रहे है – ये कहानी है ऐमन जमाल (IPS Ayman Jamal) की। जो भले ही परिवार की तरफ़ से संपन्न है पर आप जानते ही होंगे कि मुस्लिम परिवारों में आज भी महिलाओं को सरकारी नौकरी या अधिकारी बनने की सभी परिवारों में इजाज़त नहीं होती। ज्यादातर मुस्लिम महिलाएँ शादी के बाद घर में रहकर परिवार की देखभाल और बच्चों का पालन-पोषण ही करती हैं। ऐमन जमाल को जब यूपी के सीएम ने देखा कि कैसे आज वह बने बनाए रास्तों को तोड़कर आगे निकल रही हैं, तो वह भी उनकी तारीफ किए बिना ख़ुद को नहीं रोक पाए। आइए जानते हैं क्या है ऐमन जमाल (IPS Ayman Jamal) की कहानी…

IPS Ayman Jamal
कौन हैं ऐमन जमाल (IPS Ayman Jamal)
आईपीएस ऐमन जमाल (IPS Ayman Jamal) का जन्म गोरखपुर (Gorakhpur) में हुआ था। इनके पिता का नाम हसन जमाल है, जो कि पेशे से बिजनेसमैन हैं। ऐमन जमाल ने दूसरे बच्चों की तरह ही पास के स्कूल से बारहवीं तक काॅमन इंटर गर्ल्स कॉलेज से पढ़ाई पूरी की है। इनकी माँ अफरोज बानो प्राइमरी स्कूल में अध्यापिका हैं। ऐमन जमाल बताती हैं कि उन्होंने सेंट एंड्रयूज कॉलेज से जंतु विज्ञान में ग्रेजुएशन तक की पढ़ाई पूरी की है। इसके बाद साल 2016 में उन्होंने अन्नामलाई विश्वविद्यालय से डिस्टेंस से मानव संसाधन में डिप्लोमा किया हुआ है।

फिर की प्राइवेट नौकरी
ऐमन बताती हैं साल 2018 में उनका सिलेक्शन ऑर्डिनेंस क्लोदिंग फैक्ट्री शाहजहांपुर में सहायक श्रम आयुक्त के पद पर हो गया। नौकरी के दौरान ही उनका सिलेक्शन BPSC (BIHAR PUBLIC SERVICE COMMISSION) के पद पर हो गया। लेकिन उन्होंने यह नौकरी ज्वाइन नहीं की। उन्हें BPSC में बतौर राजस्व अधिकारी के पद पर नियुक्त किया गया था। वह IPS (INDIAN PULICE SERVICE) में जाना चाहती थी। इसके लिए उन्होंने दिल्ली में स्थित रेजिडेंशियल कोचिंग में दाखिला लिया। इसके बाद साल 2019 में उन्होंने UPSC (UNION PUBLIC SERVICE COMMISSION) की परीक्षा दी। जिसमें उन्हें 499 वीं रैंक प्राप्त हुई।

ऑनलाइन पढ़ाई है बेहतर माध्यम
ऐमन कहती हैं कि आज के दौर में इंटरनेट से पढ़ाई बेहतर विकल्प बनकर उभरा है। इंटरनेट के जरिए अच्छे अध्यापक से लेकर अच्छा कंटेंट तक मिल जाता है। बस ज़रूरत है सही से तलाशने की। इंटरनेट के जरिए हम बेहतर गुणवत्ता की शिक्षा के साथ कम समय में कामयाबी हासिल कर सकते हैं। इंटरनेट के जरिए पढ़ाई का ख़र्च भी बेहद कम आता है।

क्या है सफलता का मूल-मंत्र
ऐमन बताती हैं कि सफलता कभी भी जल्दबाजी या शॉर्टकट रास्ते पर चलकर नहीं पाई जा सकती है। सफलता सही योजना उचित धैर्य और सही मार्गदर्शन से पाई जा सकती है। प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने वालों के लिए प्री एग्जाम को पास करने के लिए समसामयिक घटनाओं पर मज़बूत पकड़ होनी बेहद ज़रूरी है। प्री एग्जाम ज्यादातर समसामयिक घटनाओं पर ही आधारित पूछा जाता है।

सीएम योगी ने दी बधाई
ऐमन (IPS Ayman Jamal) ने ज्यादातर पढ़ाई ऑनलाइन माध्यम से की है। उन्होंने ढाई साल तक कठिन मेहनत के बाद ये सफलता पाई है। उनकी इस कामयाबी के लिए यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उनसे गोरखनाथ मंदिर में मुलाकात की और उनको बधाई थी। उन्होंने कहा कि ऐमन जमाल मुस्लिम महिलाओं के लिए आज रोल मॉडल बनकर उभरी हैं।