किन लोगो के घर नहीं करना चाहिए भोजन , वरना चढ़ सकता है पाप

समाज

हिन्दू ग्रंथो में से एक है गरुड़ पुराण , जिसमे विष्णु जी और उनके पक्षी गरुड़ के बीच की वार्ता के बारे में बताया गया है। जिसमे उन्होंने पाप – पुण्य, जीवन – मरण , ज्ञान – विज्ञानं आदि के बारे में बताया है। जिसको पढ़ कर आम जन मानस अपने जीवन में होने वाली समस्या से बच सकता है।

इसी प्रक्रिया में गरुड़ पुराण में ऐसे घरों का जिक्र किया गया है, जहां का भोजन करने से मनुष्य पाप का भागीदार बन जाता है क्योंकि भोजन के माध्यम से व्यक्ति के विचार तथा उसके घर की ऊर्जा शरीर में जाती है। अगर विचार तथा ऊर्जा नकारात्मक होगी तो वो आप पर भी वही प्रभाव छोडे़गी।

जानिए उन घरों के बारे में जहां का भोजन करना वर्जित माना गया है:-

1- जिन्हें बेहद अधिक गुस्सा क्रोध आता है, उनके घर का भोजन करने से परहेज करना चाहिए नहीं तो उनका ये गुण आपमें भी आ सकता है। इसीलिए कहा जाता है जैसा अन्न, वैसा मन।

2- जो राजा अत्यंत क्रूर हो, अपनी प्रजा पर अत्याचार करता हो, उसके घर का खाना भी कभी ग्रहण नहीं करना चाहिए। ये भोजन आपको उसके पाप का भागीदार बनाता है।

3- किन्नर प्रत्येक प्रकार के व्यक्तियों से दान लेते हैं मतलब उनके घर हर प्रकार का धन आता है। इसलिए किन्नरों के घर का खाना नहीं खाना चाहिए।

4- किसी चोर अथवा अपराधी के घर में यदि आप भोजन करते हैं तो उसके घर की नकारात्मकता भोजन के माध्यम से आपके शरीर में भी जाती है तथा इससे आपके भी विचार दूषित होते हैं। इसलिए ऐसे व्यक्तियों के घर का भोजन कभी न खाएं।

5- जिनके लोग घर बीमार हैं, उनके घर में बैक्टीरिया हो सकते हैं, ऐसे व्यक्तियों के घर में खाना खाने से बचना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.