नेचुरल ऑर्गेनिक खेती करके 9 लाख से भी ज्यादा रुपये कमा रहे हैं आईआईटियन तथागत बरोड़ा

समाज

आज के युग में जब लोग बड़े बड़े शहरों की ओर नौकरी की तलाश में पलायन कर रहे हैं। बड़े-बड़े सैलरी पैकेज के लिए अपना घर, यहां तक कि अपना देश भी छोड़ रहे हैं, ऐसे में मध्य प्रदेश के रहने वाले एक शख्स आईआईटी बॉम्बे से पढ़ाई कर वापस अपने गांव लौट आते हैं और ऑर्गेनिक खेती करके लाखों रुपए कमाते हैं।

आईआईटी बॉम्बे से की है पढ़ाई

मध्यप्रदेश के शाजापुर जिले के कालापीपल तहसील के रहने वाले तथागत बरोड़ा ने मेहनत और लगन के साथ मौलाना आजाद नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, भोपाल से बीटेक की डिग्री हासिल की। इसके बाद उनका दाखिला आईआईटी मुंबई में हुआ, जहाँ से उन्होंने मास्टर्स की डिग्री ली। 2016 में आईआईटी मुंबई से पढ़ाई पूरी करने के बाद तथागत ने गाँव वापस लौटने का फ़ैसला किया। वह चाहते तो किसी भी बड़ी एमएनसी में आसानी से नौकरी कर सकते थे, लेकिन उनका मन खेती-किसानी में लगा।

आर्गेनिक खेती में थी दिलचस्पी

गांव लौटने के बाद उन्होंने ऑर्गेनिक खेती करना शुरू किया। सबसे पहले उन्होंने थोड़ी-सी ज़मीन पर जैविक खेती शुरू की, उसके बाद धीरे-धीरे उन्होंने अपने काम को बढ़ाया। तथागत 18 एकड़ में 17 क़िस्म की फसलें उगा रहे हैं। इनमें मोरिंगा, आंवला, हल्दी, अदरक, लेमन ग्रास और चना जैसी अनेक फसलें शामिल है। इस कार्य को बढ़ाने में उन्हें 3 साल का वक़्त लगा। खेती के साथ-साथ वह पशुपालन और जैविक खाद बनाने का काम भी करते हैं।

उनके पास गौशाला भी है, जिसमें 17 गाय हैं। यहाँ से उन्हें गोबर आसानी से उपलब्ध हो जाता है इसलिए उन्होंने गोबर गैस प्लांट भी लगाया हुआ है इससे प्राप्त गैस से ही उनका घर का काम भी होता है।

व्हाट्सएप ग्रुप से करते हैं सप्लाई

तथागत चाहते थे कि उनके ग्राहकों को सभी सामान एक ही जगह पर आसानी से उपलब्ध हो जाए और उनके ग्राहकों को किसी भी सामान के लिए कहीं और जाने-जाने की ज़रूरत ना पड़े। अनाज फल सब्जी यहाँ तक कि मसाले भी उनके खेत से ही प्राप्त हो जाए। इस कार्य के लिए उन्होंने एक व्हाट्सएप ग्रुप भी बनाया हुआ है, जहाँ वह ग्राहकों से सीधे-सीधे जुड़ते हैं। इस ग्रुप के माध्यम से हर वस्तु की सप्लाई की कोशिश की जाती है।

ऑर्गेनिक खेती करके तथागत प्रति एकड़ 50 हज़ार रुपए की कमाई कर रहे हैं। आर्गेनिक खेती से इस समय उनकी सालाना आय 9 लाख रुपए है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.