2041 के मास्टर प्लान की तहत, यमुना डूब क्षेत्र का दायरा घटाने की कर रहे हैं मांग, 5 लाख लोगो को होगा इसका फायदा।

Delhi Trends News

 

आपको बता दे की DDA द्वारा 2041 के मास्टर प्लान के तहत यमुना डूब क्षेत्र का दायरा कम करने की सिफारिश की है।यह प्रस्ताव डीडीए द्वारा विकास अंतरालय में भेजा गया है।  केंद्र सरकार से मंजूरी मिलते ही इस पर काम शुरू हो जाएगा। आपको बता दे कि डीडीए से मंजूरी मिलते ही यमुना के किनारे बसी कॉलोनियों की कई दिक्कतें हल हो जाएंगी। इसके यमुना के 1 km दायरे तक कोई काम नही होगा।आपको बता दें कि साल 2021 तक के मास्टरप्लान के तहत कुल डूब क्षेत्र 3 kmतक माना गया है , जिसे काम करने की लगातार सिफारिश चल रही है. सभी पार्टियों द्वारा डूब क्षेत्र को मान्यता देने की बात उठाई गई हैं।

क्या यमुना डूब क्षेत्र का दायरा घटेगा? कितना लग सकता है वक्त

आपको बता दे की अगर प्रशासन से इस शिफारिश को मंजूरी मिलते है तो इससे आस पास बस रही कॉलोनी को बहुत फायदा होगा, मंजूरी मिलने के बाद यमुना के किनारे मैपिंग की जाएगी। इसके बाद सारे नौ निर्माण के क्षेत्र को प्रशासन द्वारा जियो टैग द्वारा लोकेट किया जाएगा इसके बाद सभी कालोनियों या अन्य पक्के निर्माणों की जिओ लोकेशन तैयार की जाएगी. इसके बाद डीडीए द्वारा सभी सरकारी विभागों से मंजूरी के लिए फाइल भेजी जायेगी। इसके बाद कालोनियों को नियमित या कालोनियों में मालिकाना हक देने का काम शुरू किया जाएगा

DDA द्वारा प्रशासन की मंजूरी पर 5 लाख की आबादी को मिल सकता है लाभ

आपको बता दे की प्रश्न की मंजूरी पर करीब 5 लाख से ज्यादा लोगो को इसका फायदा हो सकता है। DDA का कहना है की प्रक्रिया कों काफी समय लग सकता है लेकिन इससे करीब 5लाख लोगो को फायदा पहुंचेगा। खासकर पूर्वी दिल्ली और दक्षिणी दिल्ली में यमुना के किनारे बड़ी संख्या में जो कालोनियों बसी हुई हैं. इन कालोनियों में रहने वाले लोगों को सड़क, पानी और बिजली जैसी मूलभूत सुविधाओं से भी वंचित रहना पड़ता है. अगर डीडीए के द्वारा मंजूरी मिल जाती है तो यहां सड़क, पानी, बिजाली के साथ-साथ सफाई, शौचालय, समुदायिक भवन जैसी बुनियादी सुविधाओं का भी लाभ मिलने लगेगा.

Riya Pokhriyal

Writer and Editor on online33post.com

Leave a Reply

Your email address will not be published.