रेलवे की बड़ी सौगात, दिल्ली के लिए 14 मई से चलेगी नई ट्रेन, जानिए किस क्षेत्र के यात्रियों को मिलेगी ये सुविधा

रेल और यात्री सुविधाओं के मामले में पिछड़े सरगुजा को बड़ी सौगात मिल सकती है।केंद्रीय रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव 14 मई को अंबिकापुर से नई दिल्ली तक सीधी ट्रेन को हरी झंडी दिखाकर रवाना कर सकते है।इसके लिए स्थानीय स्तर पर तैयारियां भी शुरू हो गई है। खबर है कि नई दिल्ली तक नई ट्रेन आरंभ करने के लिए बोगियां बिजुरी रेलवे स्टेशन पर पहुंच चुकी है।

बोगियों को सजाने का काम भी शुरु कर दिया गया है।यदि सब कुछ ठीक ठाक रहा तो रेल सुविधा के मामले में यह उत्तर छत्तीसगढ़ के लिए बड़ी सौगात होगी।इस ट्रेन को अंबिकापुर से अनूपपुर-कटनी-इलाहाबाद-कानपुर होते नई दिल्ली तक चलाने की योजना है।रेल सुविधा के मामले में वर्षों से उपेक्षित सरगुजांचल की दो बहुप्रतीक्षित मांग अंबिकापुर से रेनुकूट और अंबिकापुर से बरवाडीह तक नई रेल लाइन निर्माण की घोषणा भी रेल मंत्री कर सकते है।इन दोनों रेल लाइन का सर्वे वर्षों पहले किया जा चुका है।

सर्वेक्षण रिपोर्ट रेल मंत्रालय और रेल बोर्ड को भी भेजा जा चुका है:

अंबिकापुर-बरवाडीह रेल लाइन तो आजादी के पहले की योजना थी।अंग्रेजों ने इस रेल लाइन पर काम शुरू भी कराया था लेकिन आजादी के बाद इस पर कोई काम नहीं हुआ।अंबिकापुर-रेनुकूट और अंबिकापुर-बरवाडीह रेल लाइन का काम होने से उत्तर छत्तीसगढ़ के लोगों को सीधा लाभ मिलेगा।दिल्ली-हावड़ा मेन लाइन से यह जुड़ जाएगा।

बता दें कि केंद्रीय रेल मंत्री अश्वनी वैष्णव 14 मई को अंबिकापुर आ रहे हैं उनके आने से पहले दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे के महाप्रबंधक और बिलासपुर के डीआरएम अंबिकापुर रेलवे स्टेशन का निरीक्षण कर वापस लौट चुके हैं। केंद्रीय रेल मंत्री ओडिशा के झारसुगड़ा से 13 मई की रात 11 बजे ट्रेन से अंबिकापुर के लिए रवाना होंगे। बिलासपुर-अनूपपुर होते विशेष ट्रेन से हुए सुबह 8:30 बजे अंबिकापुर पहुंच जाएंगे।

यहां सुबह नौ बजे से 10:30 बजे तक केंद्रीय रेल मंत्री का कार्यक्रम आयोजित किया गया है।यहां से सड़क मार्ग से वे कोरबा के लिए रवाना होंगे।केंद्रीय राज्य मंत्री रेणुका सिंह द्वारा केंद्रीय रेल मंत्री के आगमन को लेकर तैयारियों को अंतिम रूप दिया जा रहा है। नई ट्रेन और रेल लाइनों को लेकर गुरुवार शाम को वे अंबिकापुर में पत्रकारों से चर्चा भी कर सकती हैं। अंबिकापुर रेलवे स्टेशन को सजाने संवारने का काम की युद्ध स्तर पर आरंभ कर दिया गया है।

+