अगर अपने अपने परिवारिक संबंधों में इन तीन बातों को नहीं रखा ध्यान ,तो हमेशा खराब रहेंगे संबंध…….

ज्ञान धार्मिक

पुराने बुजुर्ग हमेशा कहा करते थे कि जो भी सबसे अपनी सभी बातें हृदय में रखता है तथा अरे क्या आगे उनका जिक्र नहीं करता वह सबसे जिंदगी में हमेशा कामयाबी की प्राप्ति करता है। तथा उसका जीवन ऐश्वर्या तथा धन से भरपूर रहता है इसके पास लक्ष्मी जी का अपरंपार आशीर्वाद हमेशा बना रहता है ज्ञान की देवी सरस्वती भी ऐसे व्यक्तियों पर अपनी कृपा ज्यादा से ज्यादा बनाए रखती है। इसीलिए प्रत्येक शख्स के मन में सभी का प्रिय होने की कामना बनी रहती है। चाणक्य के मुताबिक, यह काम सरल नहीं है। सभी का प्रिय होने के लिए मनुष्य में कुछ अच्छी आदतों का होना भी बहुत आवश्यक है। क्योंकि छल कपट से अर्जित किए गए प्रेम की परत एक न एक दिन खुल ही जाती है। जब सामने वाले को सच्चाई का पता चलता है तो अपयश का भी सामना करना पड़ता है। इसलिए व्यक्तियों के दिलों में अगर जगह बनानी है तो छल कपट तथा झूठ से दूर रहें और चाणक्य की इन बातों को हमेशा याद रखें।

सामने वाले व्यक्ति को कभी कमजोर न समझें: चाणक्य के मुताबिक, मनुष्य अहंकार में कभी-कभी खुद को इतना विशाल एवं सक्षम समझने लगता है कि वह सामने वाले शख्स को कभी कभी कमतर आंकने की भूल कर जाता है। यही भूल आगे चलकर भारी भी पड़ जाती है। जो शख्स अहंकार से दूर रहकर सभी का आदर सम्मान करता है, वह सभी का प्रिय होता है। बुरा समय आने पर ऐसे शख्स के साथ मदद करने वालों की भारी भीड़ जमा रहती है।

विनम्रता को अपनाएं: चाणक्य नीति बताती है कि अगर व्यक्तियों के हृदय में स्थान बनाना है तो विनम्रता तथा मधुर वाणी को अपनाएं। विनम्रता सभी को आकर्षित करती है। विनम्र शख्स ज्ञान तथा शक्ति से पूर्ण होता है। जब ऐसे शख्स मानव कल्याण के बारे में जब चिंतन करते हैं तो समाज ऐसे शख्स को आदर सम्मान प्रदान करता है।

किसी को धोखा न दें: चाणक्य के मुताबिक, दूसरों को धोखा देने वाला मनुष्य लोगों की नजर में यश की प्राप्ति नहीं करता है। धोखा देने वाले से व्यक्ति दूरी बनाकर चलते हैं। व्यक्ति जब एक बार इनके स्वभाव को जान जाते हैं तो इनसे दूर रहने में ही अपनी भलाई समझते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.