जानिए श्रीराम की असल जन्मतिथि और वनगमन की दिनांक

ज्ञान धार्मिक
रामायण की पूरी कथा तो लगभग हर एक इंसान में सुनी होगी लेकिन उस कथा में बताई गई। राम भगवान की जन्म तिथि हर एक को याद नहीं होगी तथा उसमें विस्तार से नहीं बताया गया है कि बिल्कुल सही तिथि क्या होगी लेकिन वैज्ञानिकों की शोध के अनुसार अकाश स्थिति पर शोध कर यहां जाम की स्थिति कब और किस काल में बनी थी।
इस आधार पर उन्होंने वर्तमान कैलेंडर के अनुसार सटीक तिथि निर्धारण किया है। दशरथ के पुत्रेष्ठी यज्ञ से लेकर सीता के मिलने तक 25 के करीब आकाशीय दृष्य हूबहू मिलते हैं। यह एस्ट्रोनॉमिकल फैक्ट है कि जो आकाशी स्थिति आज है, जो नक्षत्र आज हैं वो 25600 साल में रिपीट नहीं करेंगे, इसी आधार पर श्रीराम के जीवन से जुड़े सभी घटनाक्रमों की तिथि को निकाल लिया गया है। आओ जानते हैं कि श्रीराम की जन्म तिथि और उनके वनगमन की तिथि क्या है।
श्रीराम की जन्म तिथि : भगवान राम का जन्म कब हुआ था? पुराण इस बारे में कुछ और कहते हैं जबकि रामायण पर आधारित शोधानुसार नई बात निकलकर सामने आई है। इस शोधानुसार 5114 ईसा पूर्व 10 जनवरी को दिन के 12.05 पर भगवान राम का जन्म हुआ था जबकि सैंकड़ों वर्षों से चैत्र मास (मार्च) की नवमी को रामनवमी के रूप में मनाया जाता रहा है। राम एक ऐतिहासिक महापुरुष थे और इसके पर्याप्त प्रमाण हैं। चैत्र मास की नवमी को रामनवमी के रूप में मनाया जाता है। लेकिन असल में वैज्ञानिक शोधकर्ताओं अनुसार राम की जन्म दिनांक वाल्मीकि द्वारा बताए गए ग्रह-नक्षत्रों के आधार पर प्लैनेटेरियम सॉफ्टवेयर अनुसार कुछ और ही बताई जाती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.