दिया जलाने के होते है बहुत लाभ जानिये क्या क्या है लाभ

ज्ञान

हिन्दू धर्म में कुछ भी शुभ काम करने से पहले दिया जलाया जाता है। कुछ भी फेस्टिवल या कुछ शुभ कार्यकर्म हो हर काम में दीपक जलाने का रिवाज है। रौशनी ज्ञान का प्रतीक भी है, ‘ईश्वर’ प्रकाश तथा ज्ञान -रूप में ही हर स्थान व्याप्त हैं। ज्ञान मिलने से अज्ञान रुपी मनोविकार दूर होते हैं लाइफ के कष्ट मिटते हैं। इसलिए रौशनी की पूजा को ईश्वर की पूजा भी माना गया है।

अग्नि पुराण के मुताबिक, जो व्यक्ति मंदिर अथवा ब्राह्मण के घर में एक साल तक दीप दान करता है वह सब कुछ प्राप्त कर लेता है। इसी तरह चार्तुमास, पूरे अधिकमास अथवा अधिकमास की पूर्णिमा के दिन मंदिर अथवा पवित्र नदियों के किनारे दीपदान करने वाला व्यक्ति विष्णु लोक को प्राप्त होता है। इसके अतिरिक्त ऐसा भी माना जाता है कि जब तक दीपक जलता है, तब तक ईश्वर स्वयं उस जगह पर मौजूद रहते है इसलिए वहां पर मांगी गई प्रार्थनाएं जल्द पूरी होती हैं।

वही दीपक से हमें जीवन के उर्ध्वगामी होने, ऊंचा उठने तथा अंधकार को मिटा डालने की प्रेरणा प्राप्त होती है। इसके अतिरिक्त दीप ज्योति से सभी पाप समाप्त होकर जीवन में सुख-समृद्धि,आयु, आरोग्य और सुखमय जीवन में बढ़ोतरी होती। गाय के घी का दीपक जलाने से आसपास का वातावरण रोगाणु मुक्त होकर शुद्ध हो जाता है। पूजा अर्चना करते समय दिया जलाने के पीछे भी यही लक्ष्य होता है कि प्रभु हमारे मन से अज्ञान रुपी अंधकार को दूर करके ज्ञान रुपी रौशनी प्रदान करें। इसी के साथ प्रकाश एक सकारात्मक ऊर्जा प्रदान करता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.