मनुष्य और जानवर में सिर्फ एक अंतर है जो दोनों को बनता है एक दूसरे से अलग

ज्ञान

चाणक्य नीति के बारे में तो आपने सुना ही होगा जिसमे मनुष्य के बारे में बहुत से बातें कही गयी है। जो उनको मार्गदर्शक करती है , उन्ही के श्लोक में उन्होंने मनुष्य और जावर में क्या अंतर होता है उसके बारे में भी लिखा है। जानकार चौक जायँगे आप , आइए जानते हैं इसके बारे में

आहारनिद्राभयमैथुनं च सामान्यमेतत्पशुभिर्नराणाम्।
धर्मो हि तेषामधिको विशेषो धर्मेण हीनाः पशुभिः समानाः।।

इस श्लोक के जरिये चाणक्य बताते हैं कि भोजन करना, नींद लेना, भयभीत होना तथा संतान उत्पत्ति करना, ये चार बातें इंसान एवं पशु में एक जैसी होती हैं। इंसान में और पशुओं में सिर्फ धर्म का भेद है। यह एक मात्र ऐसी खास चीज है जो इंसान को पशु से अलग बनाती है। जिस इंसान में धर्म नहीं है वह पशु के समान है।

परोपकरणं येषां जागर्ति हृदये सताम।
नश्यन्ति विपद्स्तेषां सम्पद: स्यु: पदे पदे।।

चाणक्य इस श्लोक में कहते हैं कि जिन सज्जन व्यक्तियों के दिल में दूसरों का उपकार करने की भावना जाग्रत रहती है उनकी विपत्तियां समाप्त हो जाती हैं तथा पग-पग पर उन्हें धन-संपत्ति की प्राप्ति होती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.