योग करना केवल कसरत ही नहीं बल्कि जीवन की एक शैली माना जाता है

ज्ञान धार्मिक

यह बात तो आप सभी को बेहद ही जरूर पता होगी कि योग दिवस बहुत जल्द आने वाला है लेकिन उसके आने से पहले हम आपको उससे जुड़ी कुछ बेहद जरूरी जानकारी दे देना चाहते हैं। जिससे कि आप भी आज ही सहयोग करना शुरू कर देंगे आमतौर पर लोग योग को सिर्फ एक विशेष प्रकार का व्यायाम सैलरी ही मानते हैं लेकिन नहीं इसी भ्रम को दूर करने के लिए और योग के बारे में और विस्तृत रूप से आपको जानकारी देने के लिए ही हमने यह कदम उठाया है। यह स्पष्ट होना जरूरी है कि योग एक जीवन-शैली और एक जीवन-दर्शन भी है । इस लेख श्रंखला के पहले भाग में हमने बताया था कि योग के आठ अंग होते हैं । उनमें से पहले दो अंगों ‘यम व नियम’ के बारे में हमने पहले भाग में बताया था अब शेष छः अंगों के बारे में पढ़िये:

1) आसन: लोग सबसे अधिक इसी अंग को देखते, जानते और करते हैं और बहुत से तो इसी को पूरा ‘योग’ समझते हैं । ये हमारे शरीर की इस प्रकार की विशेष मुद्राएँ हैं; जिनमें शरीर को लाना और कुछ क्षण रुकना, स्वस्थ्य के लिए कई प्रकार से लाभदायक होता है । योगासनों की विशेषता यह है कि ये शरीर कि मांस-पेशियों को ही नहीं अन्तः-स्रावी ग्रंथियों (Endocrine Glands) और कई महत्वपूर्ण आंतरिक अंगों जैसे फेफड़े, हृदय, किडनी, लिवर, मेरुदंड और आंतों को भी लाभ पहुंचाता है । इससे अप्रत्यक्ष रूप से मन-मश्तिष्क पर भी सकारात्मक असर पड़ता है ।

2) प्राणायाम: योग का यह चौथा अंग श्वांस-प्रश्वांस पर नियंत्रण करके, शरीर व मन पर नियंत्रण करने का अनूठा विज्ञान है । फेफड़ो की क्षमता बढ़ाने के साथ ही इसके भी बहु-आयामी प्रभाव हैं । इसमें पूरक (सांस भरना), रेचक (सांस छोडना), कुंभक (सांस रोकना); इन तीन स्थितियों की अवधि, क्रम, गति एवं संयोजन में विभिन्नता के द्वारा कई प्रकार की प्राणायाम क्रियाएँ बताई गई हैं ।

3) प्रत्याहार: इंद्रियों और मन को नियंत्रित या संयमित बनाने को ही प्रत्याहार कहा जाता है । विषय-वासनाओं से ध्यान हटाने और सत्य-ज्ञान, मोक्ष ईश्वर-साक्षात्कार जैसी उच्च कामनाओं के उत्कट होने पर ही ऐसी स्थिति को प्राप्त किया जा सकता है ।

4) धारणा: मन को नियंत्रित कर, किसी एक ही विषय या क्रिया में पूरी तरह से लग जाने को धारणा कहा जाता है । स्थूल या सूक्ष्म, आंतरिक या बाह्य किसी भी वस्तु या विचार में मन को लगा देना ही धारणा है ।

5) ध्यान: धारणा का अभ्यास करते हुए, मन को एकाग्र करने या एकाग्रचित्त होने की सफल स्थिति को ध्यान कहा गया है । इसमें श्वांस-प्रश्वांस, किसी एक ध्वनि, आकृति, छवि या बिन्दु पर पूरी एकाग्रता लायी जाती है और फिर विचारहीनता की स्थिति भी लायी जाती है ।

6) समाधि: विचारहीनता के अच्छे अभ्यास के द्वारा समाधि की स्थिति प्राप्त होती है । ऐसा माना गया है कि, इस स्थिति के सफल होने पर अद्भुत या दिव्य अनुभव होते हैं । यही योग की चरम अवस्था है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.