हमेशा होता है धन लाभ ,इस दिशा में सोने से, जानिए असली नियम वरना, पढ़ सकते हो बड़ी मुसीबत में

ज्ञान धार्मिक

भारत धार्मिक देर से और वह अपनी धार्मिक मान्यताओं के कारण पूरे विश्व भर में काफी प्रसिद्ध है यह बात तो आप सभी को पता होगी। कि भारत में किसी भी काम करने से पहले उसका वास्तु जान लेना बहुत ही ज्यादा आवश्यक होता है भारत देश में बिना वास्तु धर्म के किसी भी कार्य का शुभारंभ नहीं किया जाता यहां हर कार्य के लिए पहले वास्तु के नियम को जाना और परखा जाता है उसी के बाद किसी शुभ कार्य की शुरुआत की जाती है अगर आप वास्तु का ध्यान नहीं रखेंगे तो आपको आने वाले समय में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है। वास्तु के अनुसार पूर्व की दिशा की और सिर करके सोना बहुत शुभ रहता है। पूर्व दिशा को सकारात्मकता का भंडार माना जाता है यदि आप पूर्व दिशा की ओर सिर करके सोते हैं तो यह सकारात्मकता को बढ़ाता है। इससे अध्ययन-अध्यापन में बढ़ोत्तरी होती है। वास्तु में पश्चिम दिशा की ओर सिर करके सोना भी शुभ माना जाता है। मान्यता है कि इस ओर सिर करके सोने से यश कीर्ति बढ़ती है।

वास्तु के अनुसार उत्तर दिशा को बहुत ही शुभ दिशा होती है लेकिन शयन करने के लिए यह दिशा अनुकूल नहीं मानी जाती है। उत्तर दिशा में सिर करके सोने से सेहत पर नकारात्मक प्रभाव पड़ने लगता है। आपके शरीर में रोग पनपने लगते हैं, इसलिए उत्तर दिशा में सिर करके नहीं सोना चाहिए।

वास्तु के अनुसार वैसे तो दक्षिण दिशा में कोई शुभ कार्य करना सही नहीं माना जाता है लेकिन दक्षिण दिशा की तरफ सिर करके सोना फायदेमंद रहता है। मान्यता है कि इस दिशा में सिर करके सोने से धन लाभ होता है।  घर की सुख-समृद्धि में बढ़ोत्तरी होती है। दक्षिण दिशा की ओर सिर करके सोने से दिमाग में नकारात्मक विचार नहीं आते हैं।

  • बिस्तर पर कभी गंदे हाथ-पैर लेकर या जूठे मुंह नहीं सोना चाहिए।
  • कभी भी टूटी-फूट खट, पलंग या फिर मैैले बिस्तर पर नहीं सोना चाहिए।
  • कभी भी बहुत दिनों से खाली पड़े अंधेरे घर या सूूनसान जगह पर नहीं सोना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.