Home / News / गणेश चतुर्थी पर आया है 6 ग्रहों का यह शुभ संयोग, गणेश जी को खुश करने के लिए आजमाए यह टिप्स !

गणेश चतुर्थी पर आया है 6 ग्रहों का यह शुभ संयोग, गणेश जी को खुश करने के लिए आजमाए यह टिप्स !

गणपति बप्पा के आगमन की तैयारी शुरू हो गई है। शुक्रवार 10 सितंबर 2021 को भगवान गणेश घर-घर विराजमान होंगे। भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि से शुरू होने वाला गणेश चतुर्थी का यह महापर्व इस बार कई शुभ संयोग लेकर आ रहा है। इन शुभ संयोगों में गणेश जी की पूजा करना सभी गणेश भक्तों के लिए बहुत शुभ रहेगा।

 

 6 ग्रहों का शुभ संयोग (गणेश चतुर्थी 2021 शुभ योग)

इस बार गणेश चतुर्थी पर 6 ग्रहों का शुभ संयोग बन रहा है, जो व्यापारियों के लिए काफी फायदेमंद रहेगा। इस बार चतुर्थी पर छह ग्रह अपनी श्रेष्ठ स्थिति में होंगे, जिसमें बुध कन्या राशि में, शुक्र तुला राशि में, राहु वृष राशि में, शनि मकर राशि में, केतु वृश्चिक राशि में और शनि मकर राशि में रहेगा। व्यापार करने वाले जातकों के लिए ग्रहों की यह स्थिति शुभ होती है। व्यापारी वर्ग का मुनाफा बढ़ेगा और शेयर बाजार भी।

 

रवियोग बन रहा है

गणेश चतुर्थी पर इस बार रवियोग में होगा पूजन लंबे समय के बाद इस बार चतुर्थी के दिन रवि योग का चित्रा-स्वाति नक्षत्र के साथ संयोग बन रहा है. चित्रा नक्षत्र शाम 4.59 बजे तक चलेगा और उसके बाद स्वाति नक्षत्र होगा। वहीं, 9 सितंबर को दोपहर 2:30 बजे से अगले दिन दोपहर 12:57 बजे तक रवीयोग होगा, जो प्रगति दिखा रहा है. इस शुभ योग में कोई भी नया कार्य और गणपति पूजन शुभ रहेगा।

 

गणेश चतुर्थी शुभ मुहूर्त (गणेश चतुर्थी 2021 शुभ मुहूर्त)

इस दिन पूजा का शुभ मुहूर्त दोपहर के समय होता है. वैसे तिथि की शुरुआत सुबह 11:03 बजे से दोपहर 1:33 बजे तक होती है, यानी पूजा का समय दो घंटे 30 मिनट का माना जाता है. हालांकि इसका शुभ मुहूर्त दोपहर 12:18 बजे से रात 9:57 बजे चतुर्थी तिथि समाप्त होने तक है.

गणेश जी को प्रसन्न करने के उपाय 

पूजा अर्पित में करें दूर्वा: श्री गणेश जी को प्रसन्न करने के लिए रोज सुबह स्नान करें, पूजा के समय श्री गणेश जी को गिनें और पांच दूर्वा चढ़ाएं। इस दूर्वा को श्री गणेश जी के मस्तक पर रखना याद रखें। दूर्वा चढ़ाते समय इस मंत्र का जाप करें-

मोदक का भोग लगाएं: मोदक से गणेश जी बहुत प्रसन्न होते हैं. गणपति अथर्ववेद में कहा गया है कि गणेश जी की पूजा करने वाले मोदक का भोग लगाते हैं। उनकी मनोकामना पूर्ण होती है। और गणपति जी उन्हें आशीर्वाद दें।

गणेश जी की करें घी अर्पित: पूजा में भगवान गणेश को समर्पित करें और उनके सामने घी का दीया जलाएं।