आप गुरु के उदय होने के पश्चात भी नहीं कर सकेंगे अपने शुभ कार्य ,जानिए इस विकट परिस्थिति के पीछे की असली वजह

ज्ञान धार्मिक

सबसे पहले तो हम आपको बता देते हैं कि इस समय मकर राशि में गुरु ग्रह विराजमान है। इसके साथ ही साथ सनी लियोन के साथ उपस्थित है और यह बात तो आप सभी को पता होगी कि बृहस्पति को देवताओं को गोलू होने का सौभाग्य मिलता है गुरु ग्रह अस्त होने वाला है 29 जनवरी को। तो मांगलिक एवं विवाह संबंधी कामों पर रोक लग जाती है। गुरू अस्त होने पर इन कामों को करने से शुभ फल नहीं मिलते हैं।

गुरू कब हो रहे हैं उदित:
16 फरवरी को देव गुरू बृहस्पति अस्त से उदित हो रहे हैं। गुरू 16 फरवरी 2021 मंगलवार को सुबह 06 बजकर 17 मिनट पर उदित हो जाएंगे।

शुक्र अस्त कब हो रहा है:
गुरू उदित होने के साथ शुक्र ग्रह अथवा शुक्र तारा अस्त हो रहा है। पंचांग के मुताबिक, 16 फरवरी मंगलवार को सुबह 06 बजकर 34 मिनट पर अस्त हो जाएगा। शुक्र 61 दिनों तक अस्त रहेगा। 17 अप्रैल 2021 शनिवार के दिन को शाम 07 बजकर 13 मिनट पर शुक्र उदित होगा।

शुक्र अस्त होने की वजह से शुभ एवं मांगलिक कार्य नहीं होंगे:
प्रथा है कि विवाह संबंधी कामों में शुक्र ग्रह की खास भूमिका मानी गई है। शादी के लिए शुक्र एवं गुरू का उदित रहना जरुरी है। इसलिए अब विवाह संबंधी कार्य शुक्र के उदित होने के पश्चात् ही संभव हो सकेंगे। शुक्र उदित होने के पश्चात् इन तिथियां में विवाह का मुहूर्त बना हुआ है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.