Home / धार्मिक / जानिए कृष्ण जन्माष्टमी के पूजा का सही विधि, बाल गोपाल को जरूर चढ़ाएं यह खास चीज !

जानिए कृष्ण जन्माष्टमी के पूजा का सही विधि, बाल गोपाल को जरूर चढ़ाएं यह खास चीज !

जन्माष्टमी का त्योहार हिंदू धर्म के लोगों के लिए बेहद खास होता है। हिंदू कैलेंडर के अनुसार, जन्माष्टमी भाद्र मास के कृष्ण पक्ष के आठवें दिन मनाई जाती है। यह तिथि इस बार 30 अगस्त को पड़ रही है जिसके चलते इस दिन कृष्ण जन्माष्टमी मनाई जाएगी। इस वर्ष जन्माष्टमी के पर्व पर हर्षना योग बन रहा है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार यह योग शुभ और शुभ माना जाता है। ऐसा माना जाता है कि इस संयोग में किए गए सभी कार्य में सफलता मिलती है। जानिए जन्माष्टमी की पूजा विधि, सामग्री सूची, मुहूर्त, महत्व और कथा।
जन्माष्टमी के इस पर्व का महत्व : इस दिन बहुत से लोग व्रत रखते हैं। भजन-कीर्तन करें। विधिपूर्वक, भगवान कृष्ण की पूजा की जाती है। भगवान श्रीकृष्ण के जन्म की कथा सुनी और सुनाई जाती है। लोग अपने घरों को सजाते हैं। इस दिन कृष्ण जी के मंदिरों में एक अलग ही चमक देखने को मिलती है। कई जगहों पर कृष्ण जी की लीलाएं भी की जाती हैं। क्योंकि भगवान कृष्ण का जन्म मध्यरात्रि में हुआ था, भगवान कृष्ण के बाल रूप को रात में ही नहलाया जाता है और उन्हें नए कपड़े दिए जाते हैं। इस दिन बाल गोपाल को पालने में पालने की भी परंपरा है।
पूजा के लिए सामग्री : खीरा, शहद, पीला या लाल साफ कपड़ा, दूध, दही, एक साफ चौकी, पंचामृत, गंगाजल, बाल कृष्ण की मूर्ति, चंदन, धूप, दीपक, अगरबत्ती, अक्षत, मक्खन, गन्ना, तुलसी पत्ता, और सामग्री भोग की।
ऐसे करें कृष्ण जन्माष्टमी की पूजा :

भगवान कृष्ण का उत्सव रोहिणी नक्षत्र में आधी रात को हुआ था, इसलिए रात में पूजा की जाती है। धार्मिक मान्यता है कि भगवान कृष्ण की पूजा करने से सभी प्रकार के दुखों का नाश होता है। ऐसे में जन्माष्टमी के दिन उपवास करते हुए भगवान कृष्ण के बाल रूप की पूजा करें. मूर्ति की स्थापना के बाद गाय के दूध और गंगाजल से उनका अभिषेक करें। फिर उन्हें मनमोहक कपड़े पहनाएं। उन्हें मोर मुकुट, बांसुरी, चंदन, वज्रंती माला, तुलसी दल आदि से सुसज्जित कर उनकी पूजा करें।
जन्माष्टमी के दिन भूलकर भी तुलसी के पत्ते नहीं तोड़ने चाहिए। क्योंकि भगवान विष्णु को भगवान कृष्ण का अवतार माना जाता है। मान्यता के अनुसार इस दिन तुलसी की पूजा की जाती है। इसका उपयोग पूजा में किया जाता है। लेकिन इस दिन इसका टूटना अशुभ माना जाता है।
जन्माष्टमी पर इन चीजों को करें भगवान कृष्ण को समर्पित
ज्योतिषियों के अनुसार जन्माष्टमी के दिन चांदी की बांसुरी भगवान कृष्ण को अर्पित करनी चाहिए। पूजा खत्म होने के बाद इस बांसुरी को तिजोरी या पर्स में रख लें। ऐसा माना जाता है कि इससे धन की प्राप्ति होती है।
जन्माष्टमी के दिन आपको कृष्ण को यह भोग अवश्य लगाना चाहिए
जन्माष्टमी के दिन भगवान कृष्ण को 56 भोग अर्पित किए जाते हैं, ऐसा करना सभी लोगों के लिए अत्यंत कठिन होता है। आप 56 भोगों के स्थान पर बाल गोपाल को खुश करने के लिए “माखन मिश्री” का भी भोग लगा सकते हैं।