भूलकर भी घर के मंदिर में ना रखें यह सामान ,नहीं तो जीवन भर रहेगी आर्थिक तंगी

ज्ञान धार्मिक

हिंदू धर्म में हर चीज वास्तु के हिसाब से होती है अगर कुछ भी वास्तु के अनुसार नहीं हुआ तो इसका परिणाम बहुत ही बुरा होता है यह आप सभी ने अपने बड़े बुजुर्गों से तो जरूरी सुना होगा हिंदू धर्म में वास्तव में बहुत ज्यादा योगदान है। बिना वास्तु का ज्ञान के लिए कोई भी शुभ कार्य नहीं होता है हिंदू धर्म।

आइए वास्तु के मुताबिक जानते हैं घर के मंदिर तथा पूजा-पाठ से जुड़ी विशेष बातें:-

* घर में बने मंदिर से जुड़ी त्रुटियां बड़ी हानि पहुंचा सकती हैं। वास्तु के अनुसार, कुछ ऐसी चीजें होती हैं, जिन्हें पूजा घर में रखना शुभ नहीं माना जाता। घर में पूजा स्थल पर कभी भी खंडित प्रतिमा नहीं रखनी चाहिए।

* वास्तु शास्त्र के मुताबिक, शंखनाद से किसी भी जगह की नकारात्मकता को दूर किया जा सकता है। बताया जाता है कि जिस घर में शंख होता है, वहां लक्ष्मी का वास होता है। घर में शंख रखने से वास्तु दोषों से निजात पाया जा सकता हैं। साथ-साथ धन की प्राप्ति भी होती है। शंख को कभी भी भूमि पर नहीं रखना चाहिए।

* वास्तु के मुताबिक, शिवलिंग को हमेशा रेशमी कपड़ा बिछाकर उसके ऊपर ही रखें। शिवलिंग को बिना रेशमी कपड़े के रखने से वास्तु दोष की आशंका होती है। इसके साथ ही घर में आर्थिक परेशानियां भी होती है।

* वास्तु के अनुसार, यदि घर में शिवलिंग की स्थापना करना चाहते हैं तो अकेला शिवलिंग नहीं बल्कि शिव परिवार की प्रतिमा रखना शुभ माना जाता है। वास्तु शास्त्र के मुताबिक, मंदिर में कभी भी पूर्वजों की फोटो नहीं रखनी चाहिए।

* देवी-देवताओं की किसी मूर्ति या प्रतिमा की पूजा करते वक़्त मुंह पूर्व दिशा में होना चाहिए। अगर पूर्व दिशा में मुंह नहीं कर सकते तो पश्चिम दिशा में मुंह करके पूजा करना भी उचित है।

* वास्तु शास्त्र के अनुसार पीले, हरे अथवा फिर हल्के गुलाबी रंग की दीवार मंदिर के लिए शुभ होती है। हालांकि, ध्यान रखें कि मंदिर की दीवार का रंग एक ही होना चाहिए।

* कई बार हवन अथवा अनुष्ठान कराने के पश्चात् बची हुई पूजा की सामग्री घर के मंदिर में रख देते हैं, जबकि ऐसा करना वास्तु के मुताबिक उचित नही हैं। बची हुई सामग्री को इस्तेमाल करना या जल में बहाना उचित माना जाता है।

* कलश के बिना पूजा अधूरी ही होती है। अधिकतर लोग कलश को जमीन पर रख देते हैं, ऐसा करने से वास्तु दोष पैदा होता है। इसलिए कलश को हमेशा थाली में रखना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.